पर्यटक स्थलों को विकसित करने के साथ साथ उसका प्रचार प्रसार करें-जिलाधिकारी

 


हरिद्वार। जिला पर्यटन विकास समिति की प्रथम बैठक में जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय ने जनपद में नए पर्यटन डेस्टिनेशन के चयन व विकास,विभागीय परिसम्पत्तियों के संचालन एवं रख रखाव,पर्यटन अवस्थापना सुविधाओं के विकास को लेकर चर्चा की गई। जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद हरिद्वार में माँ सुरेश्वरी देवी मन्दिर,पंचलेश्वर महादेव मन्दिर,गुरुकुल कांगड़ी म्यूजियम,कुंजा बहादुरपुर गांव में शहीदों की कुर्बानी स्थल, झिलमिल झील आदि कई पर्यटक स्थल है, जिनके बारे में लोगों को अधिक जानकारी नहीं है। ऐसे पर्यटक स्थलों को विकसित करने के लिए उसके सम्बन्ध में संक्षिप्त परिचय तैयार कर उसका प्रचार-प्रसार करें। प्रमुख पर्यटक स्थलों पर ऐसे स्थानों के सूचना कियोस्क, साइनेज लगाने के साथ साथ स्थानीय कार्यक्रम आयोजित कर प्रचार प्रसार करें। कहा कि लक्सर में आए दिन मगरमच्छ निकलते रहते है जिससे जनपद में एक क्रोकोडाइल पार्क बनाया जा सकता है जिसको विकसित करने से जनपद में एक अतिरिक्त पर्यटक स्थल विकसित होगा। पार्क विकसित होने पर यात्रीध्पर्यटक उक्त क्रोकोडाइल पार्क देखने के लिए जा सकेंगे। जिसके लिए उपवन संरक्षक हरिद्वार को योजना तैयार करने के लिए निर्देश दिए गए। जिलाधिकारी ने बैरागी कैम्प भू स्थल पर ऐरो स्पोर्टस के साथ साहसिक गतिविधियों का संचालन किए जाने हेतु भी प्रस्ताव तैयार करने के लिए जिला पर्यटन विकास अधिकारी को निर्देश दिए गए। जिलाधिकारी ने पर्यटन विभाग को जनपद हरिद्वार में यात्रियों के भ्रमण के लिए टूर पैकेज तैयार करने के निर्देश दिए। जिसमें यात्रियों को जनपद के अज्ञात पर्यटक स्थलों का भ्रमण करवाय जाये। समिति के सदस्य श्रीगंगा सभा के महामंत्री तन्मय वशिष्ठ ने समिति के समक्ष सुझाव दिया कि हरकी पैड़ी एक विश्वप्रसिद्ध तीर्थस्थल है जहां करोड़ों की संख्या में वर्षपर्यन्त श्रद्धालु स्नान करने आते हैं, जिसको और अधिक आकर्षक और सुन्दर स्वरूप देने के लिए भीमगोडा से आने वालों मार्ग से हरकी पैड़ी तक एप्रोच रोड बनाते हुए गंगा पथ का निर्माण किया जाये। जिस पर एक ओर म्यूरलस एवं लाईटिंग लगाई जा सकती है। जिससे पर्यटक उक्त क्षेत्र की ओर ज्यादा आकर्षित होंगे एवं उक्त क्षेत्र में गन्दगी से मुक्त भी हो सकेगी। डीएम ने कहा कि जनपद स्तर पर गठित समिति का कार्य जिले में पर्यटन स्थलों को विकसित करने के साथ ही प्रबन्धन एवं आय को बढ़ाने के साधन उपलब्ध कराना है। उन्होंने पर्यटन विभाग को निर्देशित किया कि जनपद हरिद्वार में पर्यटन विभाग की परिसम्पत्तियों को निर्धारित दरों एवं शर्तो पर संचालन हेतु किसी संस्था या व्यक्ति को दिये जाने का प्रस्ताव तैयार कर समिति से अनुमोदनार्थ आवश्यक कार्यवाही करें। क्षेत्रीय पर्यटक अधिकारी सुरेश सिंह यादव ने बताया कि यह समिति नियमित परिसंपत्तियों का संचालन एवं साहसिक पर्यटन को बढ़ावा देने तथा पर्यटन की संभावनाओं को तलाशने पर कार्य करेगी। जनपद में वर्तमान में इस समिति में 11 सदस्य हैं एवं उक्त समिति की त्रैमासिक बैठक सुनिश्चित की जायेगी। जिलाधिकारी समिति के अध्यक्ष एवं जिला पर्यटन विकास अधिकारी सदस्य सचिव होते हैं। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी प्रतीक जैन,उप वन संरक्षक मयंक शेखर झा,मुख्य कोषाधिकारी नीतू भण्डारी, सहायक सूचना अधिकारी सुनील तोमर, ईओ नगर पंचायत पिरान कलियर गौहर हयात, नगर पंचायत अध्यक्ष सफकत अली, श्रीगंगा सभा के महामंत्री तन्मय वशिष्ठ, होटल एसोसिएशन के उपाध्यक्ष योगेन्द्र कुमार शर्मा,अशोक कुमार,राकेश अग्रवाल, अखिलेश चौहान,नमित गोयल, ट्रेवल एसोसिशएन के अध्यक्ष उमेश पालीवाल आदि उपस्थित रहे।