दुष्कर्म के आरोपी को दस वर्ष की कैद की सजा

 हरिद्वार। मानसिक रूप से कमजोर महिला के घर में घुसकर दुष्कर्म करने के मामले में एडीजे एफटीएससी न्यायाधीश कुमारी कुसुम शानी ने आरोपी युवक को दोषी पाया है। एफटीएस कोर्ट ने दोषी युवक को 10 वर्ष की कठोर कैद और 11 हजार रुपये के अर्थदंड की सजा सुनाई है। शासकीय अधिवक्ता भूपेंद्र चौहान ने बताया कि 31अक्टूबर 2019 की रात में श्यामपुर क्षेत्र के गांव में घर पर अकेली मानसिक रूप से कमजोर महिला के साथ दुष्कर्म करने की घटना हुई थी। पीड़ित महिला के शोर मचाने पर पड़ोसी दो महिला व पुरुष मौके पर पहुंचे थे। पड़ोसियों ने पीडित महिला को उसके कब्जे से छुड़ाया था। मौका पाकर आरोपी युवक वहां से भाग गया था। अगले दिन गांव में रहने वाली पीड़िता की छोटी बहन को घटना की सूचना मिली थी। जिसपर की पीड़ित महिला की दूसरी बहन शिकायतकर्ता ने आरोपी सुमित पुत्र पूर्णचन्द्र निवासी थाना श्यामपुर के खिलाफ घर में घुसकर दुष्कर्म करने का केस दर्ज कराया था। पुलिस ने आरोपी युवक को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। मामले की विवेचना के बाद विवेचक ने आरोपी युवक के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की थी। शासकीय अधिवक्ता ने सरकार की ओर से आठ गवाह पेश किए।