कार्तिक मेला स्नान पर्व को लेकर पुलिस इंतजामात मुक्कमल,नौ जोन 33सेक्टरों में बांटा क्षेत्र

 


हरिद्वार। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय सिंह ने कहा कि मेला स्नान के दौरान यातायात व्यवस्था पर विशेष ध्यान देें,कही भी भीड़ एकत्रित नही होनी चाहिए,आपसी समन्वय से परिस्थितियों पर नियंत्रण करें। सोमवार को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय सिंह एवं अपर जिलाधिकारी(प्रशासन) पी0एल0 शाह ने कमलदास की कुटिया में कार्तिक पूर्णिमा स्नान पर्व हेतु नियुक्त जोनल,सेक्टर मजिस्ट्रेट तथा पुलिस बल की संयुक्त ब्रीफिंग में बोल रहे थे। ब्रीफिंग को सम्बोधित करते हुये वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय सिंह ने कहा कि ट्रैफिक व्यवस्था पर विशेष ध्यान दें। उन्होंने कहा कि जो भी निकासी वाले रास्ते हैं, उनमें कहीं पर भी भीड़ एकत्रित नहीं होनी चाहिये ताकि श्रद्धालु जो स्नान करके आ रहे हैं, वे सीधे अपने गन्तव्य की ओर बिना रूकावट के जा सकंे, जिसका प्रभाव स्नान घाटों पर भी पड़ता है। उन्होंने कहा कि स्नान घाटों आदि पर जिनकी भी तैनाती की गयी है, वे अपने-अपने तैनाती स्थलों से वाकिब हो लें तथा आपसी समन्वय बनाये रखें एवं घाटों आदि स्थानों पर अनावश्यक भीड़ एकत्रित न होने पाये इसका पूरा ध्यान रखें और वे तत्कालिक संवेदनशीलता तथा परिस्थितियों के अनुसार निर्णय लेना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि जिन्होंने पूर्व में मेला आदि स्नान पर्वों में ड्यूटी की है, उनके अनुभवों का भी लाभ उठायें तथा श्रद्धालुओं के साथ शालीनता का व्यवहार रखें। अपर जिलाधिकारी(प्रशासन) पी0एल0शाह ने ब्रीफिंग को सम्बोधित करते हुये कहा कि आप में से अधिकतर अधिकारी किसी न किसी रूप में मेला आदि स्नान पर्वों में अपनी सेवायें दे चुके हैं। उन्होंने बताया कि पूरे मेला क्षेत्र को नौ जोन तथा 33 सेक्टरों में विभाजित किया गया है। उन्होंने कहा कि जहां पर भी जिस किसी की भी तैनाती की गयी है, उस स्थल का पूर्व में निरीक्षण जरूर कर लें तथा सतर्कता का पूरा ध्यान रखें। ब्रीफिंग में अपर जिलाधिकारी(वित्त एवं राजस्व) बीर सिंह बुदियाल,सिटी मजिस्ट्रेट अवधेश कुमार सिंह,एस0पी0 सिटी स्वतंत्र कुमार,मुख्य कृषि अधिकारी विजय देवराड़ी, जिला विकास अधिकारी वेद प्रकाश,एआरटीओ सुश्री रश्मि पन्त,जिला बचत अधिकारी एस0एस0 पाल,जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी सुश्री नलिनी ध्यानी,अपर सांख्यिकीय अधिकारी लखमी चन्द, जोनल,सेक्टर मजिस्ट्रेट सहित प्रशासन तथा पुलिस के अधिकारीगण उपस्थित थे।