शक्ति के अवतार हैं कैलाशवासी भगवान शिव-श्रीमहंत रविन्द्रपुरी

 हरिद्वार। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष एवं श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी के सचिव श्रीमहंत रविंद्रपुरी महाराज ने कहा है कि कैलाशवासी भगवान शिव शक्ति के अवतार हैं। जिन की उपासना से भोग और मोक्ष दोनों सुलभ हो जाते हैं। शिव आराधना को समर्पित रहने वाले साधक का जीवन सदैव उन्नति की ओर अग्रसर रहता है और अंत में वह परमात्मा की प्राप्ति करता है। श्रावण मास के अंतिम दिन श्री दक्षेश्वर महादेव मंदिर में भगवान शिव के जलाभिषेक के पश्चात श्रद्धालु भक्तों को संबोधित करते हुए श्री महंत रविंद्रपुरी महाराज ने कहा कि भगवान शिव की पूजा बड़ी से बड़ी आसुरी शक्तियों का विनाश करती है और महादेव अपने भक्तों का संरक्षण करते हैं। महादेव की शरण में आने वाले श्रद्धालु भक्तों के सुखों में वृद्धि होती है और साधक को धर्म, अर्थ और काम का लाभ प्राप्त होता है। नाना प्रकार के शुभ और संपूर्ण फलों को प्रदान करने वाली शिव आराधना सभी के लिए पुण्य फलदाई है। श्रीमहंत रविंद्रपुरी महाराज ने कहा कि भक्ति भाव से विधि पूर्वक शिव आराधना करते हुए भक्तों को जलाभिषेक करना चाहिए। ऐसा करने से उपासक को मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है। भगवान शिव आनंद और मंगल प्रदान करने वाले हैं और सभी कष्टों के निवारण भोलेनाथ करते हैं। यह संपूर्ण सृष्टि भगवान शिव में समाहित है और प्रत्येक मनुष्य में भगवान शिव का वास है। हमें अपने भीतर छिपे हुए परमात्मा की पहचान करते हुए सतकर्मों की ओर अग्रसर रहना चाहिए और गरीब असहाय निर्धन लोगों की सहायता के लिए सदैव तत्पर रहना चाहिए। क्योंकि मानव सेवा से भी देवता अति प्रसन्न होकर भक्तों पर असीम कृपा बरसाते हैं और मानव सेवा ही सबसे बड़ा धर्म है।