सरकार सरलीकरण,समाधान, निस्तारीकरण के मंत्रों को लेकर लगातार आगे बढ़ रही-धामी

 मुख्यमंत्री अधिकारियो के साथ बैठक मे विकास कार्यो की समीक्षा के दौरान दिए निर्देश


हरिद्वार। प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि यात्रा से संबंधित सभी तैयारियों को समय से पूरा करना सुनिश्चित करें। शुक्रवार को मुख्यमंत्री ने हरिद्वार में राज्य अतिथि गृह डाम कोठी में जनपद के अधिकारियों के साथ विकास कार्य और चारधाम यात्रा और आने वाले कांवड़ मेले की व्यवस्थाओं को लेकर समीक्षा बैठक की।  अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश देने के साथ ही सभी अधिकारियों कर्मचारियों से समय पर कार्यालय पहुंचकर लोगों की समस्याओं का समाधान करने के निर्देश दिए है। मुख्यमंत्री ने कहां है कि हम लोग सरलीकरण, समाधान और निस्तरिकरण के मंत्रों को लेकर लगातार आगे बढ़ रहे हैं और हमारा यह सभी अधिकारियों और सभी कर्मचारियों को कहना है कि एक समय सीमा है ऑफिस में आने की और समस्या सुनने की और उसका निस्तारण करने की जो समय सीमा निर्धारित है उसी में सभी समस्याओं का समाधान करें,किसी की भी शिकायत नहीं आनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देशित किया है कि हाईवे पर और शहर में कहीं भी जलभराव की समस्या नहीं होनी चाहिए और इसका समाधान निकालें। उन्होंने कहा कि अभी चार धाम यात्रा चल रही है और आने वाले समय में कांवड़ यात्रा भी चलनी है उन सब को लेकर विद्युत आपूर्ति, पेयजल और पार्किंग की व्यवस्था और पुलिसिंग को लेकर अधिकारियों के साथ बात की गई है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा के वे कभी भी हरिद्वार आकर अस्पताल,नगर निगम की सफाई व्यवस्था तथा कार्यालयों में कार्मिकों की उपस्थिति आदि का औचक निरीक्षण करने आ सकते हैं। अगर औचक निरीक्षण के दौरान कहीं पर भी कोई कमी पाई जाती है, तो संबंधित के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। शुक्रवार को डामकोठी में विभागीय अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को सड़कों को गड्ढामुक्त करने के साथ ही जुलाई में होने वाली कांवड़ यात्रा की तैयारियों के संबंध में अधिकारियों को दिशा निर्देश जारी किए। अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को बताया कि कांवड़ मेले की तैयारियां प्रारंभ कर दी गई हैं। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि यात्रा से संबंधित सभी तैयारियों को समय से पूरा करना सुनिश्चित करें। बैठक में नगर निगम के अधिकारियों ने बताया कि हरिद्वार नगर निगम क्षेत्र में 160 नालों की सफाई का काम शुरू कर दिया गया है। अधिकारियों ने यह भी दावा किया कि शहर में एक दिन में तीन बार सफाई की जा रही है। बैठक में एनएचएआई की समीक्षा के दौरान सामने आया कि राष्ट्रीय राजमार्गों में कई जगह पानी रूका रहता है। जिससे जल भराव की स्थिति पैदा हो रही है। इस पर अधिकारियों ने बताया कि हाईवे पर बनी नालियों में आसपास की बस्ती और अन्य जगहों का पानी भी आ जाता है। जिसकी वजह से जलभराव की स्थिति पैदा हो रही है। इस पर मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि एनएचएआई तथा सिंचाई विभाग समन्वय स्थापित करते हुए एक समग्र योजना बनाकर इस समस्या का समाधान निकालना सुनिश्चित करें। दूसरी ओर पत्रकारों से बातचीत में मुख्यमंत्री ने साफ कहा है कि कार्यालय दिवस में सभी अधिकारी सुबह 10 से 12 दो घंटे तक अपने कक्ष में बैठकर जनता की समस्या सुनकर उनका समाधान करेंगे। जनता को समस्या को लेकर अधिकारी व कर्मचारी को तलाशना न पड़े। सभी कर्मचारी समय सीमा से कार्यालय आएं और जनता के कामों को निपटाएं। उन्होंने अधिकारियों को कार्यालयों में बॉयोमेट्रिक उपस्थिति प्रणाली लागू करने के संबंध में भी निर्देश दिए हैं। बैठक में आयुष्मान कार्ड, अवैध निर्माण, अवैध अतिक्रमण, आपदा प्रबंधन, दूधाधारी चैक पर जाम की स्थिति आदि के संबंध में भी विचार-विमर्श हुआ तथा आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गए। बैठक में विधायक आदेश चैहान,विधायक प्रदीप बत्रा,पूर्व विधायक सुरेश राठौर,जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय,वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. योगेंद्र सिंह रावत,एडीएम (प्रशासन)पीएल शाह,एडीएम वीर सिंह बुदियाल समेत जिला स्तरीय अधिकारी शामिल रहे।