मारना कोई हल नहीं है, तारणे से समस्या हल होती है-मोरारी बापू

 हरिद्वार। पतंजलि विश्वविद्यालय में ‘मानस गुरुकुल विषय राम कथा में मोरारी बापू ने गीता को केंद्र में रखते हुए कहा कि वैसे तो सात गीता हैं किन्तु रामचरित मानस में पंचगीता का उल्लेख है। रामचरित मानस का पहला अध्याय ही गुरुगीता है। उसके उपरांत निषाद गीता, लक्ष्मण गीता, अनुसूया गीता और भुसुण्डी गीता आते हैं। उन्होंने कहा कि युद्ध से न तो रामायण में कोई समाधान या उपाय है न ही महाभारत में। जगत के विश्राम के लिए एकमात्र उपाय है ‘बुद्धत्व। युद्ध के लिए नहीं जाना है, बुद्धत्व को जानने के लिए जाना है। मारना कोई हल नहीं है, तारणे से समस्या हल होती है। बापू ने कहा की भरत ने कभी युद्ध नहीं किया किन्तु लक्ष्मण शक्ति के समय जब हनुमान संजीवनी लेकर अयोध्या के ऊपर से गुजर रहे थे। तो उन्होंने भी भय से आक्रांत होकर बाण चढ़ा लिया था। कथा के बीच मोरारी बापू ने भगवान शिव के विवाह का वर्णन किया। माता पार्वती के विषय में उन्होंने कहा कि नारी जैसा गुरु होगा तभी शंका दूर होगी। कार्यक्रम में ज्ञानानंद ने व्यासपीठ को प्रणाम करते हुए कहा कि वैसे तो रामकथा कहीं पर भी, कभी भी, किसी के भी मुख से सुनी जाए तो लाभ ही देगी। परंतु हरिद्वार की पावन धरा पर मां गंगा के पावन तट पर, जिस जगह भारतीय परंपराओं को हर प्रकार से उन्नयन, सम्मान मिलता हो,भारतीयता व राष्ट्रीयता गौरवांवित होती हो। पतंजलि विश्वविद्यालय की संकायाध्यक्षा आचार्या साध्वी देवप्रिया ने कहा कि पतंजलि गुरुकुल के भाई-बहन तो पवित्रता से जीते ही हैंपरन्तु आज जहां कई विश्वविद्यालयों में नशा, वासना, भोगों की आंधी सी चल रही है। वहां पतंजलि विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राएं भी गुरुकुलीय परंपरा में सुबह पांच बजे से उठकर योग, यज्ञ, पढ़ाई से पूरा पवित्रता का जीवन जीते हैं। इस दौरान सतुआ बाबा, ऋतम्भरा,एनपी सिंह, प्रो.महावीर अग्रवाल, प्रवीण पूनीया,डॉ. निर्विकार,एनसी शर्मा, अंशुल,पारूल,स्वामी परमार्थ देव,राकेश कुमार,प्रो.अनिल यादव,प्रो. केएनएस यादव, प्रो. वीके कटियार व वीसी पाण्डेय आदि शामिल रहे।