एस.एम.जे.एन. काॅलेज शिक्षा के साथ अनुसंधान क्षेत्र में स्थापित कर रहा है नये आयाम-श्रीमहन्त रविन्द्र पुरी

 


हरिद्वार। एस.एस.एम.जे.एन. काॅलेज के पर्यावरण विज्ञान विभाग के शिक्षक डा.विजय शर्मा द्वारा जीवाणु संक्रमण पर सिल्वर नैनोकण के धनात्मक गुणों पर एक पेटेंट प्रकाशित किया गया है। इस शोध कार्य से भविष्य में चिकित्सीय अनुसंधान के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान मिल सकेगा। पूर्व में भी डा.विजय शर्मा ने पर्यावरण व जीव विज्ञान के क्षेत्र मेंउत्कृष्ट शोध कार्य किये हैं। जिसके चलते मदर हुड विश्वविद्यालय द्वारा उन्हें एनवायराॅनमेंटिलिस्ट आफ दि इयर का अवार्ड दिया गया है। देव संस्कृति विश्वविद्यालय ने भी डा.विजय शर्मा को गंगा नदी व उसकी जैव विविधता पर किये गये अनुसंधान हेतु हाइड्रो बायोलाॅजिस्ट आफ दि इयर अवार्ड से सम्मानित किया है। अब तक इनके 30 से अधिक शोध-पत्र राष्ट्रीय व अन्तर्राष्ट्रीय शोध पत्रिकाओं में प्रकाशित किये गये हैं। पर्यावरण शिक्षा के क्षेत्र में किये गये शोध कार्य के लिए डा.विजय शर्मा को हरिद्वार गौरव सम्मान व उत्तराखण्ड गौरव सम्मान जैसे महत्वपूर्ण पुरस्कारों से भी नवाजा जा चुका है। पेटेंट प्रकाशित होने पर अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष एवं मां मनसा देवी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष श्रीमहन्त रविन्द्र पुरी महाराज ने डा.विजय शर्मा की उपलब्धि पर अपने  बधाई संदेश में कहा कि एस.एम.जे.एन. काॅलेज परिवार निरन्तर शिक्षा के साथ-साथ अनुसंधान के क्षेत्र में भी नये आयाम स्थापित कर रहा है। प्राचार्य डा.सुनील कुमार बत्रा ने डा.विजय शर्मा को बधाई देते हुए कहा कि इस प्रकार के अनुसंधानों से छात्र-छात्राओं में भी शोध कार्यों के प्रति रुचि बढ़ेगी, जोकि  भविष्य के लिए कारगर साबित होगी। उन्होंने कहा कि अनुसंधान आन्तरिक गुणवत्ता की दिशा में डा.विजय कुमार शर्मा का शोध एक मील का पत्थर साबित होगा। विज्ञान संकाय प्रभारी डा.संजय कुमार माहेश्वरी, डा.सरस्वती पाठक, डा.जे.सी.आर्य, डा.मोना शर्मा, डा.लताशर्मा,डा.आशा शर्मा,डा.विनिता चैहान,डा.पूर्णिमा सुन्दरियाल, डा.प्रज्ञा जोशी, दीपिका आनन्द, डा.पदमावती तनेजा, नेहा गुप्ता, प्रीति लखेड़ा, विनीत सक्सेना, प्रिंस श्रोत्रिय आदि शिक्षकों ने भी डा.विजय शर्मा को शुभकामनायें एवं बधाई दी।