किसान भागीदारी प्राथमिकता हमारी के अन्तर्गत जनपदस्तरीय कृषक मेला आयोजित


 हरिद्वार। पंचायती राज दिवस के अवसर पर भारत सरकार द्वारा कृषकों के मध्य भारत सरकार द्वारा संचालित समस्त योजनाओं से सम्बन्धित जागरूकता एवं कृषकों के आय के अवसर बढाने हेतु 24 अपेै्रल से 01 मई तक किसान भागीदारी प्राथमिकता हमारी के तहत मंगलवार को मृदा परीक्षण प्रयोगशाला बहाराबाद के प्रांगण में एक दिवसीय जनपद स्तरीय  कृषक मेले का आयोजन कृषि विभाग हरिद्वार एवं कृषि विज्ञान केन्द्र, धनौरी द्वारा आयोजित किया गया। जिसकी अध्यक्षता विधायक आदेश चैहान द्वारा की गयी। इस मेले की मुख्य थीम प्राकृतिक खेती पद्वति रही। प्राकृतिक खेती के सम्बंध में पंतजलि जैविक शोध संस्थान के वैज्ञानिक डॉ0 आर0के0 शुक्ला एवं के0वी0के0 वैज्ञानिक डॉ0 योगेन्द्र द्वारा कृषकों को प्राकृतिक खेती के बारे में विस्तार से समझाया गया। साथ ही सर्ग संस्था द्वारा जीवामृत बनाने की प्रक्रिया का प्रयोगात्मक प्रशिक्षण दिया गया। मेले में जनपद के समस्त विकासखण्ड एवं दूर दराज के ग्रामीण क्षेत्रों से 800 से अधिक कृषकों द्वारा प्रतिभाग किया गया। उक्त मेले में मुख्य कृषि अधिकारी विजय देवराडी द्वारा कृषकों को किसान भागीदारी प्राथमिकता हमारी अभियान के सम्बंध में विस्तृत जानकारी प्रदान करते हुए बताया कि ऐसे समस्त कृषक जो पी0एम0 किसान सम्मान निधि के पात्र है तथा किसान क्रेडिट कार्ड से वंचित रह गये है, ऐसे कृषक इस अभियान अन्तर्गत अपने के0सी0सी0 सम्बन्धित बैंक से सम्पर्क कर बनवा सकते है। साथ ही पी0एम0 किसान का लाभ ले रहे समस्त कृषकों द्वारा अनिवार्य रूप से 31 मई तक निकटवर्ती जन सेवा केन्द्र के माध्यम से पी0एम0 किसान का ई-के0वाई0सी0 सत्यापन करा लें। मेले का मुख्य आकर्षण कृषि एवं रेखीय विभागों उद्यान, पशुपालन, डेयरी, मत्स्य,रेशम,फसल बीमा,बैंक,नावार्ड, एन0आर0एल0एम0, कृषि विज्ञान केन्द्र, गन्ना, मण्डी, उरेडा, महिन्द्रा कृषि आई0टी0, पतंजलि, जैविक संस्था सर्ग  एवं उरेडा के सुसज्जित स्टाल रहे। मेले में उन्नत कृषि यंत्रों की प्रदर्शनी भी लगायी गयी, जिसमें मुख्य आकर्षण का केन्द्र शुगरकेन प्लान्टर रहा। मेले के माध्यम से दूर-दराज से आये कृषकों हेतु खरीफ गोष्ठी के माध्यम से कृषक-वैज्ञानिक संवाद कराया गया, जिसमें के0वी0के0 प्रभारी डा0 पुरूषोतम द्वारा खरीफ की फसलों हेतु सस्य क्रियाओं तथा धान की वैज्ञानिक खेती के बारे में विस्तारपूर्वक बताया गया। साथ ही के0वी0के0 वैज्ञानिक डॉ0 दीप्ति द्वारा खरीफ फसलों के कीट एवं रोग प्रबन्धन के बारे में बताते हुए जैविक विधि द्वारा समेकित कीट प्रबन्धन पर कृषकों को उदाहरण के माध्यम से बताया गया। लीड बैंक अधिकारी संजय संत द्वारा बताया गया कि अभियान के अन्तर्गत 01 मई.2022 तक पी0एम0 किसान योजना के वंचित कृषकों का फसल उत्पादन, पशुपालन, मत्स्य पालन आदि हेतु नया किसान क्रेडिट कार्ड बनाया जायेगा, जिस हेतु कृषकबन्धु अपने सम्बन्धित बैंक शाखाओं से सम्पर्क कर बनवा सकते है। इफको के क्षेत्रीय प्रबन्धक द्वारा नेनो यूरिया के प्रयोग लाभ आदि के बारे में कृषकों को बताया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे विधायक आदेश चैहान द्वारा किसान भागीदारी प्राथमिकता हमारी अभियान अन्तर्गत कृषकों को संबोधित करते हुए सतत् एवं टिकाऊ खेती पर जोर देते हुए कृषकों को प्राकृतिक एवं जैविक खेती अपनाने को प्रेरित किया, जिससे मनुष्य पर बीमारियों का प्रभाव कम हो साथ ही मृदा उर्वरता में वृद्वि हो सके। विभाग की कस्टम हायरिंग योजना अन्तर्गत दो समूहों को प्रमाण पत्र भी वितरीत किये गये। मेले में मुख्य उद्यान अधिकारी नरेन्द्र यादव डीडीएम नावार्ड अखिलेश डबराल, कृषि एवं भूमि संरक्षण अधिकारी सोमांश कुमार गुप्ता, संजय अग्रवाल, आतमा योजना डी0पी0डी0 योगेन्द्र राठी, विकासखण्ड प्रभारी बीर सिंह, शेरपाल सिंह आदि उपस्थित रहे।