विकास प्राधिकरण को समाप्त कर मेला विकास प्राधिकरण में विलय किया जाए

 हरिद्वार। देवभूमि सिविल सोसायटी के सदस्यों ने नगर विकास सचिव को ज्ञापन प्रेषित कर धार्मिक संपत्तियों, अवैध निर्माणों पर रोक लगाने की मांग की है। जेपी बड़ोनी ने कहा कि बड़े पैमाने पर विभागीय सांठगांठ के चलते रसूखदार व भूमाफिया सरकारी संपत्तियों पर अनैतिक तरीके से कब्जा कर रहे हैं। लगातार अवैध निर्माण भी किए जा रहे हैं। उन्होंने मांग की कि हरिद्वार रूड़की विकास प्राधिकरण को समाप्त कर मेला विकास प्राधिकरण में विलय किया जाए। तीन साल से अधिक एक ही स्थान पर अपनी सेवाएं दे रहे अधिकारियों, कर्मचारियों का हस्तांतरण भी किया जाना चाहिए। जेपी बड़ोनी ने यह भी कहा कि आम जनमानस को निर्माण के नाम पर परेशान किया जाता है। लेकिन रसूखदार लोग गलत तरीके से भी अपने निर्माण को कर लेते हैं। विभागीय अधिकारियों को नियमानुसार कार्रवाई सुनिश्चित करनी चाहिए। एकतरफा कार्रवाई किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं की जाएगी। बिना स्वीकृति के कालोनियों के निर्माण किए जा रहे हैं। इन निर्माणों की भी जांच जनहित में की जानी चाहिए। ज्ञापन प्रेषित करने वालों में नरेंद्र कुमार, अश्विनी सैनी आदि शामिल रहे।