विष्णु महायज्ञ के शुभारंभ पर श्रद्धालुओं ने निकाली कलश शोभायात्रा

 


हरिद्वार। महामंडलेश्वर राजगुरु स्वामी संतोषानंद महाराज ने कहा है कि धार्मिक अनुष्ठानों से देश में नई ऊर्जा का संचार होता है और विष्णु महायज्ञ के आयोजन से जो सकारात्मक धर्म संदेश समाज में प्रसारित होता है। उससे भावी पीढ़ी में धर्म के प्रति जागृति की भावना पैदा होती है। भारतमाता पुरम स्थित एकादश रुद्र पीठ आश्रम में आयोजित विष्णु महायज्ञ से पूर्व महिला एवं पुरुष श्रद्धालुओं द्वारा भव्य कलश शोभायात्रा निकाली गई और विश्व कल्याण की कामना के साथ विष्णु महायज्ञ किया गया। इस दौरान श्रद्धालु भक्तों को संबोधित करते हुए महामंडलेश्वर राजगुरु संतोषानंद महाराज ने कहा कि संतों का कार्य समाज में सद्भाव का वातावरण बनाकर सन्मार्ग की प्रेरणा देना होता है और महापुरुषों ने सदैव ही समाज को नई दिशा प्रदान की है। देवभूमि हरिद्वार मैं आयोजित होने वाले विष्णु महायज्ञ से समस्त जगत में प्रेम एवं सद्भावना का संचार होगा और कोरोना महामारी का प्रभाव जल्द से जल्द खत्म होगा। उन्होंने कहा कि धर्म के प्रति कृतज्ञता और संस्कृति के प्रति समर्पण यही भाव संसार में सनातन धर्म को महान बनाता है। गुरु शिष्य परंपरा अनादि काल से पूरे विश्व में भारत को एक विशेष स्थान प्रदान करती है। राजगुरु संतोषानंद महाराज ने कहा कि वर्तमान में पाश्चात्य संस्कृति भारतीय संस्कृति पर हावी हो रही है। हमें अपने बच्चों को संस्कारवान बनाकर उन्हें अपनी संस्कृति एवं संस्कारों के प्रति जागृत करना होगा और सनातन धर्म के प्रचार प्रसार हेतु एक दूसरे का अधिक से अधिक सहयोग करना होगा। ताकि आने वाली भावी पीढ़ी अपनी संस्कृति और धर्म की भलीभांति पहचान सके और उनमें अपने देश और धर्म के प्रति त्याग एवं समर्पण की भावना समाहित हो सके। इस अवसर पर पंकज भाटी, कविता, राज डण्डोतिया, आशा देवी, राधे श्याम शर्मा हरिमोहन शर्मा, सतीश पाराशर, आके पाण्डे, रामलखन शर्मा, संतराम भट्ट, रविन्द्र भट्ट, आनन्द सिह तोमर, सुरेंद्र अग्रवाल, सुरेंद्र शर्मा, जगतगुरू आनन्देश्वर महाराज, धर्मेन्द्र शर्मा, प्रदीप कुमार, अनुपमा सिंह डण्डोतिया आदि सहित कई श्रद्धालु भक्त मौजूद रहे।