झमाझम बारिश ने बढ़ाई ठिठुरन,कपकपाती सर्दी ने घरो में कैद रहने को किया विवश

 


हरिद्वार। शनिवार तड़के शुरू हुई मूसलाधार बारिश के चलते कई जगहों पर जलभराव होने से लोगों को समस्याओं का सामना करना पड़ा। जोरदार बारिश के चलते तापमान में भारी गिरावट आने व सर्द हवाएं चलने से लोगों घरों मे दुबके रहे। सडकों, बाजारों में सन्नाटा पसरा रहा। शनिवार तड़के शुरू हुई जोरदार बारिश के चलते भगत सिंह चैक पर रेलवे पुलिया के नीचे पानी भरने से भेल, शिवालिक नगर, रोशनाबाद आदि जाने वाले लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। पुलिया के नीचे पानी बरसाती पानी भरने से पुलिस प्रशासन ने बैरिकेड लगाकर वाहनों का प्रवेश बंद कर, वाहनों को टिबड़ी फाटक अंडरपास से निकाला। जिसके चलते पुराने रानीपुर मोड़ पर वाहनों का दबाव बढ़ने से जाम जैसी स्थिति रही। दोपहर बाद बारिश रूकने के बाद और पुलिया के नीचे भरे बरसाती पानी के निकलने के बाद ही वाहनों को पुलिया के नीचे से जाने दिया गया। इसके अलावा लगातार तेज बारिश के चलते ज्वालापुर, कनखल, उत्तरी हरिद्वार, पुरानी सब्जी मण्डी, विष्णु आदि इलाकों में कई जगहों पर जलभराव हुआ। जिससे लोगों को समस्याओं का सामना करना पड़ा। बारिश के साथ सर्द हवाएं चलने और वातावरण में ठिठुरन बढ़ने से लोग घरों में दुबके रहे। ठण्ड व बारिश के चलते बाहर से आने वाले यात्रीयों की संख्या भी कम रही। हरकी पैड़ी व अन्य घाटों पर सन्नाटा सा पसरा रहा। बारिश के कारण पंचपुरी के विभिन्न क्षेत्रो में बाजार और सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा। लोग घरों में ही कैद रहकर हीटर और अलाव जलाकर आग सेंकते रहे। सर्दी के मौसम में बारिश से जगह-जगह हल्का जलभराव होने से नगर निगम के सफाई के दावों की भी पोल खुल गई। जलभराव होने से नालों की गंदगी सड़कों पर आ गई। शनिवार को तड़के से ही हरिद्वार में झमाझम बारिश शुरू हो गई थी। बारिश कुछ देर के लिए हल्की तो फिर से तेज होती रही। शनिवार को अधिकतम तापमान 15.0 और न्यूनतम 6.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। 24 एमएम बारिश दर्ज की गई। एक दिन पहले शुक्रवार को अधिकतम 21.6 और न्यूनतम 10.8 तापमान दर्ज किया गया था। दिनभर हुई बारिश से लोगों घरों में कैद रहने को मजबूर रहे। बारिश के साथ-साथ शीतलहर ने लोगों की कंपकंपी छुड़ा दी।