शासन-प्रशासन पर लगाया सफाई कर्मचारियों की उपेक्षा का आरोप

 


हरिद्वार। कर्मयोगी कल्याणकारी समिति के जिला अध्यक्ष सुशील कुमार वाल्मिीकि ने कहा कि शासन प्रशासन द्वारा सफाई कर्मचारियों को गुमराह किया गया है। समिति की बैठक को संबोधित करते हुए सुशील कुमार वाल्मिीकि ने कहा कि शासन के आदेश द्वारा नगर निगम के मुख्य नगर आयुक्त को कहा गया था कि वह बोर्ड बैठक में पारित प्रस्ताव के आधार कर्मचारियों की बहाली कर सकते हैं। लेकिन नगर आयुक्त ने ऐसा नहीं किया। नगर आयुक्त की लापरवाही के कारण बोर्ड बैठक में देरी बनी हुई है। उन्होंने आरोप लगाया कि नगर आयुक्त भी नहीं चाहते कि सफाई कर्मचारियों को उनका हक मिल जाए। उन्होंने कहा कि नगर आयुक्त के खिलाफ भी धरना प्रदर्शन करने को बाध्य होंगे और समिति का धरना समाप्त नहीं हुआ है। धरना केवल स्थगित किया गया है। यदि मांगे पूरी नहीं हुई तो धरने को दोबारा शुरू कर दिया जाएगा। जिसकी समस्त जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी। जिला महामंत्री कन्हैया चंचल ने कहा कि दलित विरोधी मानसिकता वाले नेताओं और अधिकारियों को कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे। अधिकारी और नेता सभी की सेवा करने वाले सफाई कर्मचारियों की उपेक्षा कर रहे हैं। बैठक में दीपक लोहार, दीपक आद्याल, अरुण कुमार, मोनू कांगड़ा, सनी बिड़ला, रीना, रीता, गीता, पुष्पा, त्रिशला, बाला, राजकुमारी, रितु बिरला, सुमित, तरुण चंचल, बबीता, सुमन, किरण, सपना, मंजू, कुसुम, राकेश, सावित्री, अनीता आदि उपस्थित रहे।