शहर से लेकर देहात तक हर्षोल्लास के साथ दीपोत्सव सम्पन्न,जमकर आतिशबाजी

 आगजनी की कुछ घटनाओं को छोड़कर पर्व सकुशल सम्पन्न


हरिद्वार। अंधेरे पर उजाले का पर्व दीपावली का त्यौहार पंचपुरी में पूरे पारम्परिक हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। शाम होते ही रंग-बिरंगी रोशनी से पूरा क्षेत्र सराबोर हो गया। लोगों ने श्रद्वा-भाव से अपने अपने घरों में भगवान गणेश और माता लक्ष्मी की पूजा अर्चना कर सुख-समृद्वि की कामना की। इस दौरान दीपावली के मौके पर लोगों ने उत्साह के साथ एक दूसरे को यथासंभव उपहार देकर पर्व की शुभकामनाएं देते हुए सुख-समृद्वि की कामना की। पंचपुरी में दीपावली का त्यौहार कुल मिलाकर छिटपुट घटनाओं के साथ सम्पन्न हुआ। हालांकि आतिशबाजी चलने के कारण रात भर दमकल वाहन इधर से उधर दौड़ते रहे। हालांकि किसी बड़े अग्निकांड की बात सामने नहीं आई है। दीपों का त्यौहार दीपावली देहात से लेकर शहर तक पूरे पारम्परिक हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस दौरान लोगों ने उत्साह के साथ अंधेरे को हटाने के लिए प्रतीकात्मक तौर पर दीप प्रज्जवलन कर जीवन में रोशनी कायम रहने की कामना की। दूसरी ओर दीपावली पर्व को लेकर दमकल महकमे ने अपनी तैयारी की हुई थी। विशेषकर ज्वालापुर पर दमकल महकमे का पूरा फोकस था इसलिए ज्वालापुर क्षेत्र में तीन वाहन लेकर दमकलकर्मी चैकस थे। दीपावली के दिन रानीपुर क्षेत्र के गांव सलेमपुर में एक कबाड़ के गोदाम में लगी आग पर दमकलकर्मियों ने पहुंचकर काबू पाया। कनखल की हनुमंतपुरम कालोनी में विनय राठी के घर पर ऊपरी बनी झोपड़ी ने आतिशबाजी गिरने पर आग पकड़ ली। सूचना मिलने पर पहुंचे दमकलकर्मियेां ने आग बुझाई। उसके बाद राजागार्डन में गन्ने के खेत में लगी आग पर भी कुछ मिनटों में पहुंचकर बुझा ली गई। शुक्रवार को कनखल के झंडा चैक पर सचिन पुत्र हेमचंद्र की चाय दुकान में सिलेंडर ने आग पकड़ ली। देखते ही देखते दुकान को भी आग ने अपनी चपेट में ले लिया। स्थानीय लोग पानी की बाल्टियों से पानी डालकर आग बुझाने में जुटे रहे। सूचना मिलने पर दमकलकर्मी मौके पर पहुंच गए, जिन्होंने सिलेंडर को बाहर निकालकर तुरंत आग पर काबू पाया। अग्निशमन अधिकारी शिशुपाल सिंह नेगी के अनुसार दीपावली के दिन आग लगने की कोई बड़ी घटना नहीं घटित हुई।