चित्रगुप्त जयंती पर किया कलम दवात का पूजन


 हरिद्वार। भगवान चित्रगुप्त जयंती के अवसर पर चित्रगुप्त मंडल के संयोजन में भेल सेक्टर 3 स्थित शिव मंदिर में श्री चित्रगुप्त महोत्सव मनाया गया। इस दौरान सामूहिक रूप से हवन यज्ञ तथा कलम दवात पूजन किया गया। कार्यक्रम मे उपरांत सभी को भोग प्रसाद का वितरण किया गया। चित्रगुप्त मंडल के अध्यक्ष विभास सिन्हा ने बताया कि सामूहिक कलम दवात पूजन का मुख्य उद्देश्य यूवा पीढ़ी को अपनी पुरानी संस्कृति व विरासत से अवगत कराते हुए परांम्परा को आगे बढ़ाना है। उन्होंने कहा कि कलम दवात पूजन केवल कायस्थ समाज से संम्बधित नही है। बल्कि यह पर्व समाज के सभी वर्गो, जाति व समुदाय के लोगो के लिए महत्तवपूर्ण है। पौराणिक मान्यतानुसार जब मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्रीराम का राज्यभिषेक हो रहा था। जिसमे श्री भगवान चित्रगुप्त को निमंत्रण नहीं दिया गया। उससे नाराज हो कर भगवान चित्रगुप्त ने लोगों के कर्मो का हिसाब आदि लिखना बंद कर दिया।  इस स्थिति को समझते हुए श्री राम ने चित्रगुप्त भगवान से क्षमा मांगी और तभी  से मान्यता चली आ रही है कि दिपावली से तीसरे दिन  कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को कलम दवात पूजा के रूप में मनाया जाता है। यह त्यौहार उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, बिहार, राजस्थान आदि राज्यों में सामूहिक रूप से भागवान चित्रगुप्त की प्रतिमा या चित्र के सम्मुख बड़े हर्षोल्लास से मनाया जाता है। कार्यक्रम का संचालन सचिव अंकित श्रीवास्तव द्वारा किया गया। इस अवसर पर कोषाध्यक्ष अक्षत श्रीवास्तव, प्रमोद श्रीवास्तव, देवेश कर्ण, सतीश कर्ण, अभय प्रताप नारायण, संजय सक्सेना, डॉ.दीपेश चंद्र प्रसाद, अनिल श्रीवास्तव, सुनील श्रीवास्तव, चंदन श्रीवास्तव, मनोज कुमार सिन्हा, विशाल सक्सेना, कुमार गौरव, पूनम लाल कर्ण, वीके सक्सेना, विपिन सक्सेना, धीरेंद्र निगम, निखिल रंजन, अखिल आदि सहित बड़ी संख्या में लोग उपस्थित रहे।