कलश यात्रा का निरंजनी अखाड़ा पहुचने पर संतो ने किया स्वागत

 हरिद्वार। गंगोत्री धाम से पशुपतिनाथ नेपाल के लिए निकली कलश यात्रा मंगलवार शाम को निरंजनी अखाड़ा स्थित चरण पादुका स्थल पहुंची। कलश यात्रा का स्वागत अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्रीमहंत रविंद्र पुरी, श्रीमहंत राम रतन गिरी, श्रीमहंत दिनेश गिरी, श्रीमहंत केशव पुरी, दिगम्बर राज गिरी, डॉ सुनील कुमार बत्रा, अनिल कुमार शर्मा एवं उपस्थित संतों के ने किया। एक दिन विश्राम के पश्चात कलश यात्रा बुधवार को नेपाल के लिए रवाना हो जायेगी। यात्रा के तहत गंगोत्री धाम से लाए गए पवित्र जल को पशुपतिनाथ नेपाल में भगवान भोलेनाथ को अर्पित किया जाएगा। इस अवसर पर गंगोत्री धाम के रावल शिव प्रकाश सेमवाल ने बताया कि भारत और नेपाल के बीच हमेशा से ही मित्रता का संबंध रहा है। यह कलश यात्रा विश्व के कल्याण के साथ-साथ भारत एवं नेपाल के मध्य मैत्री संबंधों को और अधिक प्रगाढ़ करने के लिए परंपरागत रूप से निकाली जाती है। श्रीमहंत रविंद्र पुरी ने बताया कि गंगा विश्व की प्रसिद्ध पवित्र नदी है और नेपाल के पशुपतिनाथ मंदिर को यूनेस्को ने विश्व धरोहर घोषित किया है। गंगोत्री धाम का जल वहां अर्पित करना हमारी सामाजिक व सांस्कृतिक धरोहरों का समन्वय है जो हमारी मनोकामना ओं को पूर्ण करने वाला पवित्र अवसर हैं। इस अवसर पर डॉ सुनील कुमार बत्रा, राकेश गोयल, संजय बतरा, उजजवल, सवामी आंनद गिरी, टीना, संजय चैहान, दिगम्बर धंनजय गिरी, स्वामी आलोक गिरी, आदि उपस्थित थे।