सूचना विभाग का पूरा प्रयास है कि पत्रकारों के हितों का ध्यान रखा जाये-तिवारी

राष्ट्रीय प्रेस दिवस पर संगोष्ठी का आयोजन


 हरिद्वार। राष्ट्रीय प्रेस दिवस के अवसर पर मंगलवार को प्रेस क्लब हरिद्वार के सभागार में संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी की अध्यक्षता करते जिला सूचना अधिकारी प्रमोद चन्द्र तिवारी ने राष्ट्रीय प्रेस दिवस के अवसर पर पत्रकार बन्धुओं को अपनी शुभकामनाएं देते हुए कहा कि आज बड़े हर्ष का विषय है कि आज राष्ट्रीय प्रेस दिवस का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मीडिया जगत एवं सूचना विभाग एक दूसरे के पूरक हैं तथा विभाग का हर सम्भव प्रयास रहता है कि पत्रकारों के हितों का हर सम्भव ध्यान रखा जाए। उन्होंने कहा कि पत्रकारों से संबंधित हर समस्या का समाधान करने की पूरी कोशिश की जाएगी। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में प्रेस की चैथे स्तम्भ के रूप में महत्वपूर्ण भूमिका है। प्रेस क्लब अध्यक्ष राजेन्द्र नाथ गोस्वामी ने कहा कि भारत में पे्रस परिषद स्वतंत्र रूप से कार्य करती है, जो मीडिया से जुड़े हुये लोगों के हितों को संरक्षित रखने का कार्य करती है। महासचिव राजकुमार ने कहा कि लोकतंत्र में अभिव्यक्ति की आजादी तथा लोकतांत्रिक मूल्यों को बचाने में मीडिया की महत्वपूर्णं भूमिका है। पूर्व अध्यक्ष राजेश शर्मा ने कहा कि हरिद्वार ने पत्रकारिता जगत में विशेष स्थान बनाया है और हमें इसे बनाये रखना है। वरिष्ठ पत्रकार ललितेन्द्र नाथ ने कहा कि प्रेस परिषद को लघु-मंझोले समाचार पत्रों के हितों की रक्षा करने के लिए आवश्यक कदम उठाने की आवश्यकता है। उन्होंने वर्तमान समय में प्रिंट मीडिया विशेषकर लघु एवं मध्यम समाचार पत्रों के सामने आने वाली समस्याओं पर विस्तार से प्रकाश डाला। वरिष्ठ पत्रकार,मुदित अग्रवाल व श्रवण झा ने कहा कि प्रेस परिषद का गठन पत्रकार हितों के संरक्षण हेतु किया गया था। उन्होंने कहा कि आज पत्रकारों की सुरक्षा तथा आर्थिक पहलुओं पर भी विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। वरिष्ठ पत्रकार अश्वनी अरोड़ा ने कहा कि आज समाचार पत्रों, विशेष रूप से लघु एवं मंझौले समाचार पत्रों को आर्थिक रूप से मजबूती प्रदान करने की आवश्यकता है। पत्रकार एम0एस0 नवाज ने इस अवसर पर कहा कि आज पत्रकारिता पर निजी विचारधारा हावी होती जा रही है, जोकि समाज एवं पत्रकारिता जगत के हित में बाधक है। पत्रकारिता पूरी तरह निष्पक्ष एवं न्यायपूर्णं होनी चाहिए। पत्रकार मनोजानन्द ने कहा कि पत्रकारिता लोकतंत्र के चार स्तम्भों में से एक है। उन्होंने कहा कि बदलते परिवेश में आज नई-नई तकनीकी चीजें सामने आ रही हैं, के बावजूद प्रिंट मीडिया का अपना अलग व महत्वपूर्ण स्थान है। संगोष्ठी में पत्रकार मनोज खन्ना, फोटो जर्नलिस्ट नरेश दीवान शेली, पत्रकार संजीव शर्मा,नौशाद खान,विकास चैहान,सुनील शर्मा,अरूण कश्यप,सोमेश खत्री, तुषार गुप्ता,ऋषभ चैहान,राजकुमार पाल,संजय चैहान,हर्ष गौतम, सूचना विभाग से अरूण तमोली, राघव, कु0 गीता राजपूत आदि उपस्थित थे। संगोष्ठी के समापन पर उपस्थित पत्रकारों ने वरिष्ठ पत्रकार,साहित्यकार,कवि,शिक्षाविद् एवं प्रेस क्लब हरिद्वार के संस्थापक महासचिव स्व0 डाॅ0 कमलकांत बुधकर को दो मिनट का मौन धारण कर श्रद्धांजलि दी गयी। कार्यक्रम का सफल संचालन करते हुए प्रेस क्लब के पूर्व अध्यक्ष एवं वरिष्ठ पत्रकार श्री दीपक नौटियाल ने राष्ट्रीय प्रेस दिवस के अवसर पर प्रेस परिषद के गठन, पत्रकारिता की चुनौतियां आदि पर विस्तृत प्रकाश डाला।