साधक के समस्त कष्टों का निवारण करती है मां भगवती-निरंजनपीठाधीश्वर कैलाशानंद गिरी

 हरिद्वार। धर्मनगरी में शारदीय नवरात्र का पर्व श्रद्धा व उल्लास के साथ मनाया जा रहा है। घरों में मां भवगती दरबार की स्थापना कर व व्रत रखकर श्रद्धालु देवी आराधना कर रहे हैं। मां भगवती के निमित्त व्रत रखने वाले श्रद्धालु मंदिरों में दर्शनों के लिए पहुंच रहे हैं। श्रद्धालुओं के आगमन को देखते हुए मंदिरों को भव्य तरीके से सजाया गया है। प्राचीन सिद्ध पीठ श्री दक्षिण काली मंदिर पर फूलों व रंग बिरंगी लाइटों से की गयी मनमोहक सजावट दर्शनों के लिए आने वाले भक्तों को मोहित कर रही है। शारदीय नवरात्र के तीसरे दिन श्री दक्षिण काली मंदिर में भक्तों को मां भगवती की महिमा से अवगत कराते हुए निंरजन पीठाधीश्वर आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी कैलाशानंद गिरी महाराज ने कहा कि मां भगवती की आराधना से जीवन भवसागर से पार हो जाता है। भक्तों पर सदैव कृपा करने वाली मां भगवती सूक्ष्म आराधना से ही प्रसन्न होकर जीवन के सभी कष्टों को दूर कर देती है। स्वामी कैलाशानंद गिरी महाराज ने कहा कि नौ दिन तक चलने वाले नवरात्रों में विधि विधान से मां के विभिन्न स्वरूपों का पूजन व आराधना करने से जीवन में आने वाली सभी बाधाएं दूर हो जाती हैं। साधक के समस्त कष्टों का निवारण हो जाता है। परिवार में सुख समृद्धि का वास होता हैं और सफलता का मार्ग प्रशस्त होता है। उन्होंनें कहा कि नवरात्र में व्रत पूजन करने के साथ बालिकाओं के उत्थान व संवर्द्धन का संकल्प भी सबको अवश्य लेना चाहिए। बालिकाओं को शिक्षा व जीवन में आगे बढ़ने के समान अवसर प्रदान करें। इस अवसर पर स्वामी अवंतिकानंद ब्रह्मचारी, लाल बाबा, पंडित प्रमोद पांडे, बाल मुकुंदानंद ब्रह्मचारी, कृष्णानंद ब्रह्मचारी, स्वामी अनुरागी महाराज आदि सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालु भक्त मौजूद रहे।