जिलाधिकारी ने दिलाई त्वरित न्याय,आगे के लिए बनी मिशाल

 हरिद्वार। जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय ने बुधवार को कलक्ट्रेट कार्यालय में जन-सुनवाई के दौरान सुश्री संध्या पुत्री विनोद, निवासी ग्राम व पो0 मोरना, जिला बिजनौर को त्वरित न्याय देने की मिशाल पेश की। सुश्री संध्या ने जिलाधिकारी को बताया कि उसने अक्टूबर, 2020 में एस एण्ड एस प्रिन्ट ओपेक, सिडकुल हरिद्वार में कार्य किया, किन्तु आज तक इस अवधि का भुगतान कम्पनी प्रबन्धनध्ठेकेदार द्वारा नहीं किया गया। सुश्री संध्या ने यह भी बताया कि  उसने इस संबंध में कार्यालय उप श्रमायुक्त, रोशनाबाद हरिद्वार में भी शिकायत दर्ज करायी। इस पर जिलाधिकारी ने मौके पर उपस्थित श्रम विभाग के अधिकारियों से भी विस्तृत जानकारी ली। अधिकारियों ने बताया कि उन्होंने कम्पनी प्रबन्धक को जो नोटिस भेजा था, कम्पनी प्रबन्धक ने उसे लेने से इंकार कर दिया था। इस पर जिलाधिकारी ने कम्पनी के अधिकारियों से कहा कि अगर कोई नोटिस भेजा जाता है, तो उसे लेने की आपकी जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि यह बिटिया इतने महीनों से कार्य करने के एवज में भुगतान का इंतजार कर रही है। जिलाधिकारी ने आज प्रबन्ध निदेशक, एस एण्ड एस प्रिन्ट ओपेक कम्पनी, श्रम विभाग के अधिकारियों एवं सुश्री संध्या को जिलाधिकारी कार्यालय में उपस्थित होने के निर्देश दिये थे।विनय शंकर पाण्डेय ने दोनों पक्षों को ध्यान से सुना। सुनवाई के दौरान जिलाधिकारी ने कम्पनी के प्रबन्ध निदेशक को सुश्री संध्या द्वारा अक्टूबर,2020 में जो कार्य किया था, उसका तुरन्त पूर्ण भुगतान करने के निर्देश दिये। इस पर कम्पनी के प्रबन्ध निदेशक ने कहा कि वे आज ही सुश्री संध्या का भुगतान कर देंगे। इस अवसर पर सम्बन्धित विभागों के अधिकारीगण उपस्थित थे।