संभावित रणजी खिलाड़ियो के चयन के पैमाने,चयनकत्र्ता पर उठने लगे सवाल

 हरिद्वार। बीसीसीआई एवं क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड के निर्देशानुसार क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ हरिद्वार द्वारा रुड़की के एक निजी मैदान पर जनपद के सीनियर वर्ग के संभावित रणजी खिलाड़ियों के चयन पर और एक चयनकर्ता पर अभी से सवाल उठने लगे हैं। हरिद्वार में कई सीनियर खिलाड़ी चयनकर्ताओं में से एक चयनकर्ता पर भी सवाल उठा रहे हैं। उनका मानना है बीसीसीआई के नियम अनुसार पदाधिकारी का कोई भी सगा रिश्तेदार चयनकर्ता नहीं हो सकता और इस आधार पर क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ हरिद्वार के सचिव के सगे भाई का एक चयनकर्ता होना बीसीसीआई के नियम के विरुद्ध है। वहीं दूसरी ओर 32-33 साल के खिलाड़ियों के चयन पर भी सीनियर खिलाड़ी बातें बना रहे हैं। एक सीनियर खिलाड़ी ने नाम ना छापने की शर्त पर बताया कि 38 साल के खिलाड़ी से आप क्या उम्मीद कर सकते हो जबकि 35 -36 साल में ही खिलाड़ी तो राष्ट्रीय क्रिकेट में भी संयास ले लेते हैं। चयन के समय न तो उनका फिटनेस टेस्ट हुआ ना ही कोई अन्य टेस्ट हुआ ,जिससे खिलाड़ियों की फिटनेस का पता चल सके। चर्चा में तो एसोसिएशन के एक पदाधिकारी भी हैं जिन पर जांच चल रही है। पूर्व में एसोसिएशन के एक पदाधिकारी पर चयन के लिए पैसा मांगने की भी आरोप लग चुका है जिसकी जांच उच्च स्तर से जारी है। चर्चा तो एक पदाधिकारी की भी है जिन पर पूर्व में चयन के लिए पैसा मांगने के आरोप खिलाड़ी ने लगाए थे।