सिडकुल स्थित कम्पनी के बाहर निष्कासित श्रमिको ने दिया धरना,पुलिस की ओर मुकदमा दर्ज

 


हरिद्वार। हरिद्वार के औद्योगिक क्षेत्र सिडकुल स्थित सत्यम ऑटो कंपोनेंट कंपनी से निष्कासित 300 कर्मचारियों ने अपने परिवार सहित कंपनी के मुख्य गेट पर तालाबंदी कर धरना दे दिया है। निष्काषित कर्मचारियों का कहना है कि शासन, प्रशासन सहित कई आला अधिकारियों के दरवाजे खटखटाने के बाद भी हमें आज तक इंसाफ नहीं मिला है। 04 साल से अपने हक की लड़ाई लड़ते-लड़ते आज कर्मचारियों के परिवार भूखमरी की कगार पर आ पहुंचे हैं। निष्कासित कर्मचारियों का कहना है कि पिछले महीने 07 तारीख को जिलाधिकारी सी. रविशंकर को एक ज्ञापन दिया गया था। जिसके चलते कंपनी प्रबंधन के साथ एक वार्ता की गई थी। जिसमें कंपनी प्रबंधन के द्वारा धीरे-धीरे सभी कर्मचारियों को कंपनी में कार्य बहाली के लिए कहा गया था। लेकिन 01 माह बीत जाने के बाद भी किसी कर्मचारी को वापस कार्य पर नहीं लिया गया। कर्मचारियों का कहना है कि बार-बार यह झूठे वादे करके कम्पनी कर्मचारियों का मजाक बना रही है।इसीलिए आज कर्मचारियों ने कंपनी के मुख्य गेट पर तालाबंदी कर यह धरना दिया है कि जब तक कार्य बहाली नहीं तब तक घर वापसी नहीं। मौके पर पहुंची पुलिस ने प्रदर्शन कर रही महिलाओं और कर्मचारियों को समझाने का प्रयास किया जिसमे प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच बहस भी हुई। वही दूसरी ओर सिडकुल थाना में उपनिरीक्षक मनीष नेगी की तरफ से सिडकुल की एक कंपनी के बाहर बैठे सैकड़ों श्रमिकों और समर्थन देने आए संगठन के नेताओं पर लॉक डाउन की धाराओं में महिपाल सिंह श्रमिक नेता, सिंह पाल सैनी भाजपा सभासद वार्ड, अभिषेक कुमार, नवोदय नगर चन्देश कुमार, बीम सिंह कण्डारी, अनुज कुमार, दिनेश राणा, अरुण कुमार, बलवन्त, राहुल, रेखा रानी, सपना, मीरा, संगीता, किरण, रीना, मंजू, रूबी चैहान सहित 100-150 श्रमिको के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।