पाच दशक तक राजनीति में आठ बार चुनाव लड़े अम्बरीष कुमार


हरिद्वार में भाई जी के नाम से विख्यात पूर्व विधायक व कांग्रेसी नेता अम्बरीष कुमार के राजनीतिक जीवन का लंबा इतिहास रहा है। अम्बरीष कुमार उत्तर प्रदेश विधानसभा मे सर्वश्रेष्ठ विधायक का पुरुस्कार भी प्राप्त कर चुके हैं। अम्बरीष कुमार 2019 के लोकसभा चुनाव में भी हरिद्वार लोकसभा सीट से कांग्रेस के प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़े थे। 50 साल के राजनीतिक जीवन में 72 वर्षीय अम्बरीष कुमार ने आठ चुनाव लड़े हैं। हरिद्वार में उनकी राजनीतिक ज़मीन कितनी मजबूत रही है, यह इससे पता चलता है कि आठ में से 6 चुनावों में वे दूसरे नंबर पर रहे। कांग्रेस से शुरू हुआ उनका राजनीतिक सफ़र जनता दल और समाजवादी पार्टी होते हुए फिर से उन्हें कांग्रेस में ले आया। हरीश रावत के बाद वह उत्तराखंड कांग्रेस के ऐसे दूसरे नेता हैं। जिन्होंने इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और राहुल गांधी तीनों के नेतृत्व में चुनाव लड़ा है। हरिद्वार के कपड़ा व्यापारी परिवार में जन्मे अम्बरीष कुमार ने 1971 में इंदिरा गांधी से प्रभावित होकर कांग्रेस का हाथ थामा था। सालभर के भीतर ही 1972 में वे हरिद्वार के यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष बने। कांग्रेस के प्रति झुकाव उन्हें परिवार से विरासत में मिला था।


मुख्यमंत्री की ओर से किच्छा विधायक ने दी श्रद्वांजलि

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की ओर से किच्छा से विधायक राजेश शुक्ला पूर्व विधायक अंबरीश को श्रद्धांजलि देने पहुंचे। मुख्यमंत्री की ओर से उन्होंने पुष्पच्रक अर्पित कर पूर्व विधायक अंबरीश कुमार को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा कि अंबरीश कुमार संविधान के अच्छे ज्ञाता था। उनके साथ समाजवादी पार्टी में रहा हूं। निधन का समाचार मिला तो दुख हुआ है। उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से जितना उनको ज्ञान और अनुभव था जो उनकी प्रतीभा थी उसका सच्चे अर्थों में उतना लाभ उत्तराखंड को नहीं मिल सका।