महादेव की आराधना से व्यक्ति को मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है-दिगंबर बलवीर पुरी

 


हरिद्वार। देवों के देव बिल्केश्वर महादेव की आराधना से व्यक्ति को मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है और जो श्रद्धालु भक्त श्रद्धापूर्वक भगवान शिव की शरण में आ जाते हैं। भगवान भोलेनाथ उनके समस्त पापों का विनाश कर उन्हें सुख समृद्धि प्रदान करते हैं। उक्त उद्गार बिल्केश्वर महादेव मंदिर के व्यवस्थापक दिगंबर बलवीर पुरी महाराज ने श्रद्धालु भक्तों को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। इससे पूर्व कोरोना महामारी की समाप्ति के लिए बिल्केश्वर महादेव का भव्य श्रृंगार कर आरती की गई और विश्व की खुशहाली की कामना की गई। स्वामी बलवीर पुरी महाराज ने श्रद्धालु भक्तों को भगवान शिव की महिमा का सार समझाते हुए कहा कि भगवान भोलेनाथ अपने भक्तों की सूक्ष्म आराधना से ही प्रसन्न होकर उन्हें मनचाहा वरदान देते हैं। श्रद्धा से भोलेनाथ को स्मरण करने भर से ही समस्त कामनाओं के पूर्ण होने का वरदान श्रद्धालु भक्तों को मिलता है। भोले भंडारी की कृपा जिस पर भी हो जाए उसका जीवन भवसागर से पार हो जाता है और अपनी शरण में आने वाले प्रत्येक श्रद्धालु भक्तों का संरक्षण कर भगवान शिव उनके जीवन को अंधकार से मुक्त कर प्रकाश की ओर ले जाते हैं। स्वामी बलवीर पुरी महाराज ने कहा कि माता पार्वती की कठोर तपस्या के रूप में भगवान शिव बिल्केश्वर महादेव मंदिर में विराजमान हुए जो इस स्थान की महत्वता को और बढ़ाता है भगवान शिव की असीम कृपा से जल्द ही कोरोना महामारी संपूर्ण विश्व से समाप्त होगी और संपूर्ण विश्व खुशहाली की और लौटेगा। बिल्केश्वर महादेव में स्थित प्रतिष्ठित चमत्कारी गौरीकुंड में स्नान करने मात्र से व्यक्ति को वैभव की प्राप्ति होती है। स्वामी बलवीर पुरी महाराज ने कहा कि जिस तरह भक्त और भगवान का रिश्ता जन्म जन्मांतर का होता है। उसी तरह भगवान भोलेनाथ से बंधे हैं नंदी महाराज। भगवान शिव तक पहुंचाने वाली हर मनोकामना व्यक्ति को इन्हीं के कान में कहनी होती है। जिसको नंदी महाराज तुरंत भगवान भोलेनाथ तक पहुंचाते हैं। उन्होंने कहा कि चंदन, पुष्प और बेलपत्र आदि से भगवान बिल्केश्वर महादेव का श्रृंगार करने से सारा वातावरण शिवमय हो जाता है और प्रत्येक श्रद्धालु भक्त भगवान शिव की आराधना में लीन होकर भगवान शिव को प्राप्त करता है।