गुरू अर्जुन देव के शहीदी दिवस पर वितरित किया ठण्डा शर्बत

 हरिद्वार। सिक्ख समाज के पांचवे गुरु गुरु अर्जुन देव के शहीदी दिवस पर प्रेमनगर चैक स्थित ऐतिहासिक विरक्त कुटिया गुरुद्वारे द्वारा गुरुद्वारे के गेट और हाईवे किनारे छबील लगाकर लोगो को ठंडा शरबत वितरित किया गया। इस अवसर पर गुरुद्वारे के संचालक बाबा पंडत ने कहा कि कोरोना के कारण कार्यक्रम को सूक्ष्म किया गया। गुरु अर्जुन देव ने कौम और सच्चाई के लिए अपना बलिदान दिया। उनके बताए मार्ग पर चलकर मनुष्य अपना जीवन सफल बना सकता है। गुरु अर्जुन देव को मानवता के सच्चे सेवक, धर्म के रक्षक के रूप में जाना जाता है। प्रत्येक धर्म के प्रति उनके मन में सम्मान था। उन्होंने सभी धर्मों का सम्मान करना सिखाया। गुरु अर्जुन देव की शहादत सिख धर्म के इतिहास में एक खास स्थान रखती है। भेल सेक्टर दो स्थित गुरु नानक दरबार गुरुद्वारे में भी छबील लगाकर ठंडा शरबत वितरित किया गया। प्रधान सुखदेव सिंह ने बताया कि पिछले ग्यारह दिनों से गुरुद्वारे में सुखमनी साहिब का पाठ किया गया। शहीदी दिवस पर भोग डाला गया। पिछले एक महीने से श्री गुरु नानक देव जी धर्म प्रचार समिति द्वारा कोरोना मरीजों को ऑक्सीजन और लंगर की सेवा प्रदान की जा रही है। निर्मल संतपुरा आश्रम के बाहर भी छबील लगाई गई। संत जगजीत सिंह शास्त्री ने कहा कि प्रत्येक वर्ष ठंडे शरबत की छबील लगाकर शहीदी दिवस मनाया जाता है। इस दौरान सीमित संख्या में संगत उपस्थित रही। इस अवसर पर पविंदर सिंह बल, उजल सिंह, जुझार सिंह, गगनदीप सिंह, बलविंदर सिंह, संदीप सिंह, जोधा सिंह, मालक सिंह, मलकीत सिंह, परगट सिंह, लवप्रीत सिंह, रवि सिंह, सरबजीत सिंह, अनूप सिंह सिद्धू, अमनप्रीत सिंह आदि उपस्थित रहे।