ब्रांड अम्बेसडर ने सचिव आवास पर पौधे लगाकर की मिशन आयुरप्लांट्स शुरूआत

 


हरिद्वार। मिशन आयुरप्लांट्स एवं ऑक्सिजन लेन के ब्रांड अम्बेसडर यशस्वी शर्मा ने अभियान की शुरूआत करते हुए प्राधिकरण के सचिव के आवास पर जाकर पौधे लगाकर अभियान की शुरूआत की। यशस्वी शर्मा ने आज गिलोय, तुलसी, एलोवेरा एवं सतावर के पौधे लगाए। साथ ही उन्होंने कहा कि मैं बहुत खुश हूं कि मुझे एचआरडीए ने इस महत्वपूर्ण अभियान का ब्रांड अंबेसडर बनाया है। यह बहुत ही जिम्मेदारी का काम है। इसलिए मेरा यह प्रयास है कि मैं अधिक से अधिक घरों में जाकर पौधे लगाऊंगी क्योंकि पेड़-पौधे हमें ऑक्सीजन देते हैं और यदि घर पर अधिक से आयुरप्लांट्स लगे हो तो उनके उपयोग से हम स्वयं को स्वस्थ रख सकते हैं। एचआरडीए की ओर मिशन आयुरप्लांट्स एवं ऑक्सिजन लेन तथा ओउम आरोग्यं योग मंदिर के संयुक्त तत्वाधान में रविवार से घर-घर जाकर आयुरप्लांट्स लगाने की शुरुआत की गयी। इसी श्रंखला में यशस्वी शर्मा ने आज एचआरडीए के सचिव एवं इस अभियान के सूत्रधार डॉ ललित नारायण मिश्र के घर जाकर पौधे लगाए। साथ ही उन्होंने अपर जिलाधिकारी के.के.मिश्रा के आवास पर भी पौधे लगाए। पौधे लगाने में बहुत से बच्चो ने प्रतिभाग किया। सचिव डा.ललित नारायण मिश्र ने यशस्वी को ब्रांड अम्बेसडर बनने की बधाई देने के साथ ही कहा कि इस बच्ची की एनर्जी को देखकर अच्छा लग रहा है कि इतनी कम उम्र में इन्होंने यह निर्णय लिया है कि अधिक से अधिक घरों में जाकर पौधे लगाएंगी और साथ ही लोगों को प्रकृति प्रेम के लिए जागृत करने की जिम्मेदारी भी ले रही है। एचआरडीए के इस अभियान का लक्ष्य है कि पूरे हरिद्वार को पेड़ पौधों से हरा भरा कर दिया जाए जिससे हम सबकी सुंदर हरिद्वार, स्वच्छ हरिद्वार एवं हरित हरिद्वार की परिकल्पना पूर्ण हो सके। अपर जिलाधिकारी के.के.मिश्रा ने यशस्वी शर्मा को बधाई देते हुए कहा कि पौधे लगाने का प्रकल्प आज की आवश्यकता अनुसार बहुत जरूरी है क्योंकि हर तरफ प्रदूषण फैला हुआ है और पौधों के द्वारा हम प्रदूषण को समाप्त कर सकते हैं। आरोग्यम योग मंदिर के अध्यक्ष योगी रजनीश ने यशस्वी शर्मा को बधाई देते हुए कहा कि यह बहुत ही महत्वपूर्ण कार्य है क्योंकि इससे हम संपूर्ण हरिद्वार को हरा-भरा बना सकते हैं। उन्होंने कहा कि हरिद्वार में पेड़-पौधों की बहुत आवश्यकता है क्योंकि हरिद्वार में बहुत से श्रद्धालु समय-समय पर आते रहते हैं। आयुरप्लांट्सप एवं ऑक्सीजन लेन के माध्यम से प्रदूषण का प्रभाव हरिद्वार के नागरिकों पर नहीं पड़ेगा। साथ ही उन्होंने कहा कि आज जिस प्रकार से समाज में बीमारियों का प्रकोप बढ़ता जा रहा है उससे बचने का एकमात्र उपाय आयुर्वेद है और यदि घर घर में आयुरप्लांट्स होंगे तो वातावरण तो रोगाणु मुक्त होगा ही साथ ही छोटी-छोटी बीमारियों का इलाज भी घर पर ही संभव हो सकेगा। अंत में यशस्वी शर्मा ने सभी से ये निवेदन किया कि सभी लोग एचआरडीए की इस मुहिम में सहयोग करें और अपने घरों तथा आस पास अधिक से अधिक पेड़ पौधे लगाएं और पर्यावरण को स्वच्छ और सुंदर बनाने में अपना सहयोग दें।