वेतन नही मिलने से नाराज रोडवेज कर्मियों ने किया प्रदर्शन,दिया धरना

 हरिद्वार। वेतन न मिलने से नाराज रोडवेज कर्मचारी बस अड्डे परिसर में धरने पर बैठे। सरकार और शासन के खिलाफ नारेबाजी कर कर्मचारियों ने विरोध प्रदर्शन किया। लंबित वेतन सहित सभी मांगें जल्द पूरी करने की मांग उठाई। 19 जून से अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार पर जाने की चेतावनी दी। वहीं रोडवेज कार्यशाला में भी कर्मचारियों ने धरना दिया। गुरुवार को रोडवेज कर्मचारी संयुक्त परिषद के बैनर तले उत्तराखंड परिवहन निगम (रोडवेज) के कर्मचारियों ने बस अड्डा और कार्यशाला में प्रदर्शन कर धरना दिया। शाखा अध्यक्ष जल सिंह ने बताया कि रोडवेज कर्मचारियों को जनवरी से मई माह तक का वेतन नहीं मिल पाया है। जिस वजह से कर्मचारियों को दिक्कतें उठानी पड़ रही है। लंबित वेतन के जल्द भुगतान और कोरोना के कारण आकस्मिक मृत्यु होने वाले रोडवेज कर्मचारियों के परिजनों को शासन से सहायता राशि उपलब्ध कराई जाने, रोडवेज में कार्यरत संविदा में विशिष्ट श्रेणी चालक-परिचालकों को नोशनल के आधार पर 250 किमी प्रतिदिन के हिसाब से कार्यरत मानते हुए भुगतान करने की मांग को लेकर धरना दिया जा रहा है। शाखा मंत्री दीपचंद ने कहा कि सेवानिवृत्त और मृतक कर्मचारियों के देयकों का भुगतान प्राथमिकता के आधार पर किया जाए। कर्मचारियों के वेतन से की गई समिति की वेतन कटौती का भुगतान जल्द किया जाए। कोरोना महामारी के कारण वर्ष 2020 में यात्री कर में दी गई छूट इस वर्ष भी परिवहन निगम को यात्री कर में राहत दी जाए।वहीं रोडवेज कर्मचारी संयुक्त परिषद (कार्यशाला) के शाखा मंत्री वीरसिंह असवाल ने कहा कि रोडवेज के कर्मचारियों को जनवरी से मई तक का वेतन नहीं मिला है। मार्च 2020 से अब तक रिटायर कर्मचारियों को विभाग से ग्रेच्युटी का भुगतान नहीं हुआ है। अमित कुमार ने बताया कि तकनीकी को प्रोत्साहन राशि 5 हजार पूर्व की भांति भुगतान किया जाए। विशेष श्रेणी पद हटाकर संविदा पद में परिवर्तित किया जाए। शुक्रवार के बाद 14 और 15 जून को भी कर्मचारी धरना देंगे। इसके बाद भी मांगें नहीं मानी गई तो 19 जून से अनिश्चिकालीन कार्य बहिष्कार किया जाएगा।