सफाई व्यवस्था बदहाल जनप्रतिनिधियो की चुप्पी दुर्भाग्यपूर्ण-कौशिक

 

हरिद्वार। श्री अखण्ड परशुराम अखाड़े के अध्यक्ष पंडित अधीर कौशिक ने नगर निगम के अधिकारियों की लापरवाही पर रोष प्रकट करते हुए कहा कि शहर की हालत लगातार गंदगी के कारण खराब हो रही है। सड़कों पर कूड़े के अंबार लगे हुए हैं। नियमित रूप से सड़कों का कूड़ा नहीं उठने से सड़न बदबू लोगों के घरों तक पहुंच रही है। आर्यनगर मार्ग, रामनगर, दयानंद नगरी आदि में व्यापक रूप से गंदगी फैली हुई है। डंपिंग जोन के आसपास चूने का कोई छिड़काव नहीं किया जा रहा है। भयंकर बीमारियों के फैलने की पूरी संभावनाएं बनी हुई हैं। नगर निगम के अधिकारी, मेयर, जनप्रतिनिधि सफाई व्यवस्था को लेकर चुप्पी साधे हुए हैं। जनता के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। जनप्रतिनिधि मात्र वोट मांगने के लिए तो पहुंच जाते हैं। लेकिन समस्याओं का कोई निस्तारण नहीं हो पा रहा है। पंडित अधीर कौशिक ने जिला अधिकारी से मांग की कि रविवार को संपूर्ण लाॅकडाउन रहता है। साथ ही क्रफ्यू भी जनपद में जारी है। उसके बावजूद भी नगर निगम द्वारा सेनेटाइज, दवाईयों का छिड़काव नहीं किया जाना लचर व्यवस्था को दर्शा रहा है। लोग कोरोना संक्रमण से डरे सहमे हैं। भयानक स्थिति बनी हुई हैं। लेकिन नगर निगम के अधिकारी अपने कर्तव्यों को नहीं समझ रहे हैं। उन्होंने जिला अधिकारी से अपील करते हुए कहा कि सामाजिक संगठनों से शहर की सफाई व्यवस्था व अन्य समस्याओं के लिए आमंत्रित कर वार्ता की जाए। प्रशासन का व्यवस्थाओं को लेकर हरसंभव मदद की जाएगी। लेकिन शहर की सफाई व्यवस्था दुरूस्त की जानी चाहिए। जनप्रतिनिधियों को शर्म आनी चाहिए। जोकि अपने घरों में दुबक कर बैठे हुए हैं। सफाई व्यवस्था तत्काल दुरूस्त की जाए। ऐसे कर्मचारियों को तत्काल हटाया जाए जो कि आदेशों को भी नहीं मान रहे हैं।