पूर्व नेता प्रतिपक्ष ने की उषा ब्रेको प्रकरण की पार्टी स्तर पर उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग

 हरिद्वार। नगर निगम बोर्ड में नेता प्रतिपक्ष रहे पूर्व कांग्रेस पार्षद उपेंद्र कुमार ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष से उषा ब्रेको की लीज बढ़ाए जाने के मामले की जांच कराने की मांग की है। पत्र की प्रति कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्षा सोनिया गांधी, पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी, उत्तराखण्ड प्रभारी देवेंद्र यादव, राष्ट्रीय महासचिव व पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को भी भेजी गयी है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह को लिखे पत्र में उपेंद्र कुमार ने कहा है कि 2018 में हुए नगर निगम चुनाव में शहर की जनता ने मेयर पद की कांग्रेस प्रत्याशी अनिता शर्मा को विजयी बनाया। बीते तीन वर्षो में मेयर अनिता शर्मा और उनके पति अशोक शर्मा ने तत्कालीन शहरी विकास मंत्री नगर विधायक के असहयोग के बावजूद उल्लेखनीय कार्य किए। तत्कालीन शहरी विकास मंत्री नगर विधायक के प्रति जनता का असंतोष बाहर आने लगा। जिससे उम्मीद बंधी थी कि हरिद्वार विधानसभा में कांग्रेस का 30 वर्षो का सूखा समाप्त होगा। लेकिन कांग्रेस के नेतृत्व में वाले नगर निगम बोर्ड में पक्ष विपक्ष की सांठगांठ से जिस प्रकार महज 15 मिनट में उषा ब्रेको की लीज बढ़ाने संबंधी प्रस्ताव पास किया गया। उससे पार्टी तथा मेयर की भ्रष्टाचार विरोधी छवि को गहरा धक्का लगा है। प्रस्ताव पास कराने में भारी आर्थिक लेने देन की चर्चाएं भी आम हैं। इससे हरिद्वार की जनता व कांग्रेस के निष्ठावान कार्यकर्ता स्वयं को ठगा सा महसूस कर रहे हैं। वर्ष 2013 में नगर निगम बनने के बाद गठित हुए बोर्ड में कांग्रेस पार्टी की और से नेता प्रतिपक्ष रहे उपेंद्र कुमार ने पत्र में कहा है कि कुछ समय पूर्व तक एक दूसरे को शहर की दुर्दशा के लिए जिम्मेदार ठहराने वाले नगर विधायक और मेयर अचानक एक राय हो गए। यह कोई इत्तेफाक नहीं हो सकता। कुछ भाजपाई और कांग्रेस पार्षदों के मुखर विरोध को दरकिनार कर आनन फानन में प्रस्ताव पास होने से जनता में संदेश गया है कि भाजपा और कांगे्रस पार्टी में कोई अंतर नहीं है। हालांकि पार्टी के दो वरिष्ठ नेताओं पूर्व पालिका अध्यक्ष प्रदीप चैधरी व सतपाल ब्रह्मचारी ने प्रस्ताव पर उंगली उठाई पर इससे जनता में कोई स्पष्ट संदेश नहीं जा पाया। उपेंद्र कुमार ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष से मांग की है कि एक उच्च स्तरीय कमेटी का गठन कर पूरे प्रकरण की गहन जांच पड़ताल करायी जाए। यदि कोई पार्टी पदाधिकारी व कार्यकर्ता इसमें संलिप्त पाया जाए तो कड़ी कार्रवाई की जाए। जिससे भ्रष्टाचार के कारण नगर विधायक के खिलाफ बना है, वह बेकार ना जाए और भ्रष्टाचार के खिलाफ कांग्रेस पार्टी की नीति का पूरे प्रदेश में संदेश जाए। उपेंद्र कुमार ने अनिल भास्कर, युवा कांगे्रस विधानसभा अध्यक्ष नितिन तेश्वर, प्रदेश प्रवक्ता हिमांशु बहुगुणा, रवि भटीजा, रवि बाबू शर्मा, नीरव साहू आकाश भाटी, नितिन यादव जैसे अनगिनत युवा कार्यकर्ताओं का पाटी मे हित में अधिक उपयोग करने की मांग भी की है।