मंदिरों को तोड़ा जाना बेहद दुर्भाग्यूपर्ण-श्रीमहंत राजेंद्रदास

 हरिद्वार। बैरागी कैंप में श्री पंच निर्मोही अनी अखाड़ा व श्री पंच निर्वाणी अनी अखाड़े के मंदिर तोड़े जाने पर वैष्णव संतों ने कड़ी नाराजगी व्यक्त की है। प्रैस को जारी बयान में श्री पंच निर्मोही अनी अखाड़े के अध्यक्ष श्रीमहंत राजेंद्रदास महाराज ने कहा कि अतिक्रमण के नाम पर वैष्णव अखाड़े के मंदिरों को तोड़ा जाना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। संत समाज इसकी घोर निंदा करता है। उन्होंने कहा कि मंदिर तोड़े जाने से बाबर एवं मुगलकाल की यादें ताजा हो गयी हैं। श्रीपंच निर्वाणी अनी अखाड़े के अध्यक्ष श्रीमहंत धर्मदास महाराज ने कहा कि सनातन धर्म पर कुठाराघात को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। भाजपा शासनकाल में संतों के साथ ऐसे दुव्र्यवहार की उन्हें कतई आशा नहीं थी। ऐसे घिनोने कृत्य के लिए सरकार को माफी मांगनी चाहिए और मंदिरों को विधि विधान से पुनः स्थापित करना चाहिए। उन्होंने कहा कि बैरागी कैंप क्षेत्र में बड़ी संख्या में कब्जे कर अवैध निर्माण किए हैं। लेकिन उसके सामने भ्रष्ट अधिकारियों की आंखे बंद पड़ी हैं। पूरे बैरागी कैंप को अतिक्रमण मुक्त वैष्णव संतों को लीज पर भूमि दी जाए। श्री पंच दिगम्बर अनी अखाड़े के अध्यक्ष श्रीमहंत कृष्णदास महाराज ने कहा कि सनातन हिंदु धर्म के स्थलों को तोड़कर सरकार ने धर्म विरोधी होने का परिचय दिया है। सरकार यदि सुप्रीम कोर्ट को सही रूप से बैरागी कैंप की वास्तविक स्थिति से अवगत कराती तो मंदिर टूटने से बच सकते थे। लेकिन भ्रष्टाचार में लिप्त अधिकारियों व सरकार की धर्म विरोधी नीति के चलते मंदिर तोड़े गए। जिसका समस्त वैष्णव संत समाज घोर विरोध करता है। सरकार को इसका खामियाजा आगामी चुनावों में भुगतना होगा। इस अवसर पर महंत महेश दास, महंत नरेंद्र दास, महंत मनीष दास, महंत बिहारी शरण दास, महंत रघुवीर दास, ब्रह्माण्ड गुरू अनन्त महाप्रभु, महंत विष्णुदास, महंत प्रह्लाद दास, महंत सूरजदास, संत सेवक दास, महंत प्रेमदास, महंत अगस्त दास, महंत अमित, महंत दुर्गादास आदि संतों ने भी मंदिर तोड़े जाने की निंदा की।