ईश्वरानंद ब्रह्मचारी बने अग्नि अखाड़े के महामंडलेश्वर


 हरिद्वार। श्री शंभू पंच अग्नि अखाड़ा के पंच परमेश्वर के निर्णय पर अखाड़ा के सभापति श्रीमहंत मुक्तानंद ब्रह्मचारी एवं अग्नि पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर श्रीमत रामकृष्णानंद ब्रह्मचारी ने चादर ओढ़ाकर उत्तम ध्यान केंद्र के संचालक ईश्वरानंद ब्रह्मचारी को महामंडलेश्वर की उपाधि प्रदान कर धर्म सेवा में समर्पित किया। तत्पश्चात अखाड़े के महामंत्री श्रीमहंत सोमेश्वरानंद ब्रह्मचारी साहित चारों सचिव तथा थाना पति एवं महामंडलेश्वर स्वामी विष्णुदेवानंद ब्रह्मचारी एवं साध्वी महामंडलेश्वर कनकेश्वरी देवी ने चादर ओढ़ाकर महामंडलेश्वर स्वामी ईश्वरानंद ब्रह्मचारी के उज्जवल भविष्य की कामना की। नव अभिषिक्त महामंडलेश्वर स्वामी ईश्वरानंद ब्रह्मचारी को चादर ओढ़ाकर उनके उज्जवल भविष्य की कामना करने वालों में प्रमुख थे सभापति श्रीमहंत मुक्तानंद ब्रह्मचारी ,महामंत्री श्रीमहंत सोमेश्वरानंद ब्रह्मचारी ,सचिव श्रीमहंत संपूर्णानंदब्रह्मचारी ,श्रीमहंत नीलेश चैतन्य ब्रह्मचारी, श्रीमहंत जियानंद ब्रहमचारी ,श्रीमहंत नारायण दत्त प्रकाश ब्रह्मचारी एवं थानापति श्रीमहंत बिचित्रानंद ब्रहमचारी, श्रीमहंत साधना नंद ब्रहमचारी ,श्रीमहंत श्यामानंद ब्रह्मचारी ,श्रीमहंत दुर्गानंद ब्रह्मचारी के अतिरिक्त महामंडलेश्वर स्वामी हरिचेतनानंद, ब्रह्म स्वरूप ब्रह्मचारी ,सतपाल ब्रह्मचारी ,भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक तथा चंपत राय सहित विभिन्न अखाड़ों के संत उपस्थित थे।सभी संत महापुरुषों के प्रति आभार नमन करते हुए महामंडलेश्वर स्वामी ईश्वरानंद ब्रह्मचारी ने कहा कि अखाड़े ने जो जिम्मेदारी उन्हें भी है उसका निर्वाह अखाड़ा एवं संत परंपरा के अनुरूप करेंगे।