जागनाथ महादेव मंदिर मेवाड के घनश्याम बाव हुये हितेश्वरानंद सरस्वती

हरिद्वार। मानव कल्याण आश्रम के परमाध्यक्ष महंत स्वामी दुर्गेशानंद सरस्वती महाराज ने कुम्भ मेले के अवसर पर राजस्थान प्रांत के उदयपुर जिले के जागनाथ महादेव मंदिर कटावला मठ चावंड के पीठाधीश्वर घनश्याम बाव को सन्यास दीक्षा देकर अपना शिष्य घोषित किया और उन्हें स्वामी हितेश्वरानंद सरस्वती के नाम से दीक्षित कर सन्यास परम्परा का अनुगामी बनाया। मानव कल्याण आश्रम में एक संक्षिप्त कार्यक्रम में कोविड गाइड लाईन का पालन करते हुए सीमित संख्या में उपस्थित युवा भारत साधु समाज के पदाधिकारीयो की उपस्थित में सन्यास परम्परा में दीक्षित किया गया। इस अवसर पर मानव कल्याण आश्रम के परमाध्यक्ष महंत स्वामी दुर्गेशानंद सरस्वती महाराज ने कहा कि गुरू शिष्य परम्परा हमारी आदि परम्परा है। जो सनातन हिन्दू धर्म और सन्यास परम्परा का आधार हैं। उन्होंने ने कहा कि स्वामी हितेश्वरानंद सरस्वती वर्षो से जागनाथ महादेव मंदिर कटावला मठ चावंड उदयपुर राजस्थान में रह कर साधना और समाज का मार्ग दर्शन कर रहे हैं और राजस्थान में घनश्याम बाव जी के नाम से प्रतिष्ठित संत है। ऐसे शिव भक्त और जागनाथ महादेव मंदिर कटावला मठ चावंड उदयपुर राजस्थान के पीठाधिश्वर को सन्यास परम्परा में दीक्षित किया जाना, जहां इस परम्परा का संवर्धन है वहीं हमारी स्वस्थ गुरु शिष्य परम्परा का प्रतीक भी है। इस अवसर पर सन्यास परम्परा में नव दीक्षित संत स्वामी हितेश्वरानंद सरस्वती महाराज ने कहा कि गुरू देव स्वामी दुर्गेशानंद सरस्वती महाराज ने अपना शिष्य बना कर जो मुझ पर उपकार किया है, उसके प्रति सदैव कृतज्ञ रहूँगा और गुरूदेव के बताये अध्यात्म, सेवा और धर्म के मार्ग का निष्ठावान अनुगामी बना रहूँगा। इस अवसर पर मानव कल्याण आश्रम के सेवक, जूना अखाडे के म.म.स्वामी रवि गिरि महाराज, महंत गंगा दास, आचार्य हरिहरानंद, महंत स्वामी रविदेव शास्त्री, महंत सुतीक्षण मुनि, महंत दिनेश दास, महंत श्रवण मुनि, स्वामी कृष्ण दास, स्वामी कृपाला नंद, स्वामी अशोक बन, भगत कृष्ण कुमार अत्रि सहित संत महंतजन उपस्थित रहे।