पूर्व प्रधानमंत्री का सशक्त पंचायतीराज का सपना दिवस तक सिमटा-राव आफाक अली

 

हरिद्वार। पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष राव आफाक अली के कार्यालय सलेमपुर में राष्ट्रीय पंचायत दिवस मनाया गया। जिसमें राव आफाक अली ने तीन दिनों में लगातार ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को अपने कार्यालय पर प्रतिदिन सैकड़ों आधार कार्ड बनवाकर दिए। जिनमें सभी के फार्म भरना व अपने कैमरामैन से सभी के फोटो खिंचवाना आदि सब निःशुल्क सेवा के रूप में किया गया। जिसका भुगतान राव आफक अली स्वयं अपनी जेब से किया व सभी को मास्क भी वितरित किए गए। राष्ट्रीय पंचायत दिवस के अवसर पर राव आफाक अली ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्व.राजीव गांधी ने भारत में पंचायत राज व्यवस्था लागू करने व कई दर्जन विभागों को पंचायतों को सशक्त और मजबूत बनाने के लिए पंचायतों के आधीन चलाने का काम किया था। जो आज सिर्फ राष्ट्रीय पंचायत दिवस भर मनाने में सिमट गया है। हरिद्वार के पंचायत चुनाव पर भी राव आफाक अली ने भाजपा सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी हरिद्वार में पंचायत चुनाव कराने से डर रही है। प्रधानों का कार्यकाल 28 मार्च को 2021 को पूरा हो गया था। जहां पर इन्होंने अपनी ढींगामश्ती व जबरदस्ती से प्रशासक नियुक्त कर दिए। जबकि पंचायती राज एक्ट के मुताबिक चुने हुए जनप्रतिनिधि से ही नया चुना हुआ जनप्रतिनिधि चार्ज लेता है। ग्राम प्रधानों को हाईकोर्ट या सुप्रीम कोर्ट में सरकार के इस कृत्य के खिलाफ जाना चाहिए था। पंचायत चुनाव के परिसीमन में भी भाजपा ने एक एक ग्राम पंचायत को दो दो, तीन तीन जिला पंचायतों में बांट दिया। जो सरासर नियम विरूद्ध है। पंचायतों को आरक्षण भी समय से पहले किया जाना चाहिए। ताकि आरक्षित श्रेणी के लोग समय से चुनाव की तैयारी कर सकें। राष्ट्रीय पंचायत दिवस पर राव आफाक अली ने कहा कि मनरेगा में जो किसानों मजदूरों को रोजगार दिया जाता था। वो पूरी तरह ठप्प पड़ा है। ग्रामीण क्षेत्र का किसान व मजदूर लाचार और बेबस है। क्योंकि शहरों में कोरोना के चलते किसी प्रकार के रोजगार नहीं मिल पा रहे हैं। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के सपने के अनुसार पंचायतों को रोजगार देने व अपने हिसाब से ग्रामीण क्षेत्रों के लिए योजनाएं बनाने, महिला स्वयं सहायता समूह बनाने, सिंचाई व सफाई की व्यवस्था करने, शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने, आपसी झगड़ों को सुलह सफाई कराने, सामाजिक बुराईयों से बचाने हेतु युवाओं को पढ़ाई के साथ साथ खेलों के लिए खेल मैदान उपलब्ध कराना, जन्म मृत्यु, आय, जाति व चरित्र व प्रमाण पत्र आदि के प्रमाण पत्र बनाना आदि शामिल थे। परंतु आज ग्राम प्रधान या जिला पंचायत, क्षेत्र पंचायतें सरकार की हठधर्मिता व जबरदस्ती के आगे बौने पड़े हैं। राव आफाक अली ने कहा कि ग्राम पंचायत का चुनाव दुनिया के चुनावों सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण व सबसे ज्यादा प्रतिशत में होता है। जिसमें एक एक वोट के लिए संघर्ष करना पड़ता है। इस अवसर पर राव फरमान अली एडवाकेट, राव कासिफ अली, इरफान अब्बासी, इस्लाम कुरैशी, राव नासिर, रईस कुरैशी, नरेश कुमार, मुन्ना कुरैशी, अमन कुमार, राव शाहबाज अली, यासिर अली, साजिद अब्बासी, राव हामिद, शफ्फरत राव, फईम कुरैशी, हाजी इजहार, फै्याज अब्बासी आदि सैकड़ों लोगों ने रोजाना नए आधार कार्ड बनवाए व नाम पते दुरूस्त कराए तथा सभी को मास्क आदि वितरित कर सेनेटाइज किया गया और राष्ट्रीय पंचायत दिवस की शुभकामनाएं दी गयी।