मुख्य शिक्षा अधिकारी को शिक्षकों की विभिन्न समस्याओं को लेकर ज्ञापन सौंपा

 हरिद्वार। राजकीय प्राथमिक शिक्षक एसोसिएशन ने कहा कि जनपद के विकास खंडों में कार्यरत सीआरसी (समन्वयक) के स्थान पर शासनादेश के अनुसार उसी संकुल के वरिष्ठ अध्यापकों को संबंधित स्कूल का दायित्व दिया जाना चाहिए, तभी उच्च न्यायालय के आदेश का पालन होगा। बुधवार को राजकीय प्राथमिक शिक्षक एसोसिएशन के प्रतिनिधिमंडल ने मुख्य शिक्षा अधिकारी को शिक्षकों की विभिन्न समस्याओं को लेकर ज्ञापन सौंपा। मुख्य शिक्षा अधिकारी डॉ.आनंद भारद्वाज ने कहा कि शिक्षकों के पत्र के आधार पर संबंधित को आदेशित किया है कि वह समय से सभी दस्तावेज पूरे कर लें। जिससे शिक्षकों के वेतनमान आदि का कार्य समय से पूर्ण किया जाए। एसोसिएशन के अध्यक्ष जितेंद्र सिंह ने कहा कि विकास खंडों में एमडीएम प्रभारी का कार्य अध्यापकों को दिया गया है। इससे छात्र-छात्राओं की शैक्षणिक कार्यों पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है। एमडीएम के कारण ही शिक्षकों में विवाद की स्थिति भी पैदा हो रही है। जितेंद्र सिंह ने कहा कि प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में कार्यरत समस्त शिक्षकों के चयन वेतन, प्रोन्नत वेतनमान एवं सातवें वेतनमान के एरियर का भुगतान नहीं हो सका है। जिससे शिक्षकों को भारी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। महामंत्री दर्शन सिंह पवार ने कहा कि अध्यापको के चिकित्सा प्रतिपूर्ति एवं चिकित्सा अवकाश के लंबित प्रकरणों का भुगतान 31 मार्च तक करने की मांग की गई है।