हड़ताल के कारण बैंकों में लटके रहे ताले बैंको के निजीकरण के विरोध में अधिकारियों व कर्मचारियों ने किया प्रदर्शन

 हरिद्वार। बैंकों के निजीकरण के खिलाफ सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के अधिकारियों व कर्मचारियों की दो दिवसीय हड़ताल के चलते हरिद्वार में भी बैंकों पर ताले लटके रहे। बैंकों में कामकाज नहीं होने से लेनदेन प्रभावित हुआ और लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। हड़ताल में शामिल बैंक अधिकारियों व कर्मचारियों ने यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन के बैनर तले ने चंद्राचार्य चैक स्थित पंजाब नेशनल बैंक परिसर में प्रदर्शन कर धरना दिया। धरने को संबोधित करते हुए कामरेड राजकुमार सक्सेना ने कहा कि सरकार ने पहले बैंकों का विलय किया और अब बैंकों के पंूजीपतियों के हाथों में सौंपना चाहती है। सरकार बैंको का निजीकरण कर बेरोजगारी बढ़ाने का काम कर रही है। ऋचा मिश्रा ने कहा कि सरकार की निजीकरण करने की नीति का विरोध किया जाएगा। बैंक ग्राहकों व जनता को भी इस संबंध में जागरूक होगा। सभी को निजीकरण का विरोध करना चाहिए। बैंक कर्मचारी अभी दो दिन की हड़ताल कर रहे हैं। यदि सरकार ने मांगे नहीं मानी तो बैंक कर्मचारी अनिश्चित हड़ताल पर जा सकते हैं। धरना प्रदर्शन कर रहे अन्य बैंक कर्मचारियों ने भी कहा कि सरकार की मंशा ठीक नही है। बैंक व अन्य सरकारी संस्थानों का निजीकरण कर बेरोजगारी बढ़ाने का काम किया जा रहा है। धरना प्रदर्शन करने वालों में राजकुमार सक्सेना, एनबी कपूर, भीमदत्त पांडे, रंजित सिंह, बालकिशन, हिमांशु, शांति पुनेठा, आरएल गुप्ता, सतीश भट्ट, अतुल कुमार, प्रमोद कुमार, गौरव गोसाईं, राजपाल सिंह, अमिताभ, करण मेहरा, पवन कुमार, अंजना शुक्ला, अर्जुन चुटेला, सुरभि, मानता, नमिता, वंदना, अर्चना, रितिजा, अलोरिटा, प्रतीक, देवेंद्र पांडे, अनुज, साधना, अंकित, सचिन, विनीत आदि सहित सैकड़ों कर्मचारी शामिल रहे।