कार्यों में गुणवत्ता का ध्यान रखते हुये शेष कार्यों को यथाशीघ्र पूरा करने के निर्देश

 हरिद्वार। मेलाधिकारी दीपक रावत ने कुम्भ की तैयारियों के दृष्टिगत गुरूवार को रोडी बेलवाला क्षेत्र का निरीक्षण किया। मेलाधिकारी ने सर्वप्रथम रोडी बेलवाला क्षेत्र स्थित पर्यटन गेस्ट हाउस के निकट स्थापित कोविड-19 के संक्रमण को ध्यान में रखते हुये लगाये गये फुट आपरेटेड पानी के नल को स्वयं पांव से आपरेट करके देखा। इसके पश्चात उन्होंने रोड़ी बेलवाला क्षेत्र में स्थापित थाने का निरीक्षण किया, जहां उन्होंने टेण्टों, पीने के पानी की स्थिति, स्टोर रूम, मेस, शौचालय, सीवर सेफ्टी टैंक तथा उनकी क्षमता आदि के सम्बन्ध में अधिकारियों से जानकारी ली। इसके बाद मेलाधिकारी ने रोड़ी बेलवाला क्षेत्र में विभिन्न स्थानों पर स्थापित पानी के नल एवं शौचालयों के निर्माण आदि को बारीकी से देखा तथा रामायण पथ के निकट रखे मलबे को यथाशीघ्र हटवाने के निर्देश अधिकारियों को दिये। उन्होंने अधिकारियों को कार्यों में गुणवत्ता का ध्यान रखते हुये शेष कार्यों को यथाशीघ्र पूरा करने के निर्देश भी दिये। इस मौके पर उप मेलाधिकारी अंशुल सिंह, दयानंद सरस्वती, सभी सेक्टर मजिस्ट्रेट, लोक निर्माण, पेयजल, सिंचाई, विद्युत सहित सम्बंधित विभागों के अधिकारीगण मौजूद थे। दूसरी ओर मेलाधिकारी दीपक रावत ने मेला नियंत्रण भवन से सटे गंगा घाटों का निरीक्षण किया। वह हाथी पुल से होते हुए कुशावर्त घाट पहुंचे। उन्होंने पुल की टूटी रेलिंग को ठीक कराने का निर्देश दिया। उन्होंने कुशावर्त घाट पर लगे दुकानों को स्नान के समय हटवाने और साफ सफाई में सुधार कराने को कहा। इसके क्रम में वह गऊघाट पर पहुंचे। भाजपा नेता किशन बजाज, श्री गंगा सभा के अध्यक्ष प्रदीप झा, महामंत्री तन्मय वशिष्ठ व स्थानीय लोगों ने घाट पर आवारा पशुओं के आने से लोगों को हो रही परेशानी की जानकारी देकर आवारा पशुओं का आवागमन बंद कराने की मांग की। इस पर मेलाधिकारी ने ठेकेदार को ऐसा करना सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। मेलाधिकारी ने हनुमान घाट पर प्राचीन श्री हनुमान मंदिर में मत्था टेका। महंत रविपुरी ने पूजन कराया। मेलाधिकारी ने बाजार में कई जगह टूटी सड़कों व नालियों को ठीक कराने और सफाई व्यवस्था में सुधार का निर्देश दिया। निरीक्षण के दौरान अपर मेलाधिकारी रामजी शरण शर्मा, उप मेलाधिकारी दयानंद सरस्वती व सेक्टर मजिस्ट्रेट आदि उपस्थित थे।