मानसिक रोगियों के लिए सोशल सर्विस ऑर्गेनाइजेशन काम करेगा-सुनीता सिंह

 हरिद्वार। धर्म नगरी में इधर-उधर भटकते मानसिक रोगियों का ध्यान रखने के लिए पीएसएसओ साइक्लोजिकल सोशल सर्विस ऑर्गेनाइजेशन काम करेगा। प्रैसवार्ता के दौरान जानकारी देते हुए मनोविज्ञान की छात्रा सुनीता सिंह ने बताया कि हमारे संगठन का मूल उद्देश्य शहर और उसके आसपास के इलाकों में रह रहे ऐसे लोगों का चिन्हीकरण करना और उन्हें मानसिक सेवाएं उपलब्ध कराना है जो मानसिक रूप से विक्षिप्त बेघर व बेसहारा है। उन्होंने बताया कि संस्था द्वारा दी जा रही इन सेवाओं की सबसे ज्यादा आवश्यकता हरिद्वार शहर में है। क्योंकि यहां मानसिक रोगियों की संख्या और शहरों के मुकाबले कई ज्यादा है। यहां हर चैराहे हर गली नुक्कड़ पर ऐसे कई मानसिक रोगी मिल जाते है। जो आंशिक या पूर्ण रूप से मानसिक रूप से विक्षिप्त होते हैं, इनमें से कई तो ऐसे होते हैं। जिन्हें थोडे बहुत मानसिक उपचार के बाद ही पूरी तरह से स्वस्थ्य किया जा सकता है। लेकिन अफसोस वो भी पूरी तरह से पागलों जैसा जीवन जीने को विवश है। उन्होने बताया कि हाल ही में उन्हें एक ऐसी महिला भी मिली जो मानसिक रूप से अस्वस्थ है तथा साथ में 7 साल की स्वस्थ बेटी है। इस प्रकार कई महिलाएं मानसिक विक्षिप्त होकर शहर में भटक रही है। यदि महाकुंभ में ऐसे लोगो पर ध्यान ना दिया गया तो देश विदेश से महाकुंभ में आए लोगों की दृष्टि में हरिद्वार की क्या तस्वीर बनेगी। सुनीता सिंह ने बताया कि मानसिक रूप से विक्षिप्त महिलाओ के साथ कई प्रकार के असामाजिक तत्व यौन अपराधों को अंजाम देते हैं। हालांकि ऐसे लोगों की पूर्ण जिम्मेदारी राज्य सरकार की है। लेकिन राज्य सरकार अपने कार्यों की व्यवस्था व्यस्तता के चलते इस और ठीक से ध्यान नहीं दे पाती। तो हम अब ऐसे लोगों का चिन्हीकरण करके उन लोगों को सरकारी मनोवैज्ञानिक और मनोचिकित्सक केंद्रों पर भिजवाने का भी काम करेंगे। साथ ही इसमें अन्य कई स्वयंसेवी संस्थाओं की भी मदद ली जाएगी।