पिछले तीन दिन से सीवर का पानी गंगा में जाने से रोकने के लिए अधिकारियों ने कोई कदम नहीं उठाया

 हरिद्वार। सीवर लाइन क्षतिग्रस्त होने से हर की पैड़ी के निकट गंगा में गिर रहे दूषित पानी को लेकर व्यापारी और संत भड़क गए। मामले में संत नाराज होकर अनशन पर बैठ गए। जबकि व्यापारियों ने भी प्रदर्शन कर संत के साथ धरना दिया। आरोप लगाया कि हरकी पैड़ी से सटे नाईसोता व सुभाष घाट के पास पिछले तीन दिन से सीवर का पानी गंगा में जाने से रोकने के लिए अधिकारियों ने कोई कदम नहीं उठाया। रविवार को नाईसोता घाट के पास व्यापारी नेता राजू वधावन के नेतृत्व में व्यापारियों ने गंगा अनुरक्षण इकाई के अधिकारियों के खिलाफ नारेबाजी कर विरोध प्रदर्शन किया। इसके साथ ही जूना अखाड़ा के महंत बिंदु गिरी अनशन पर बैठ गए। व्यापारी नेता राजू वधावन ने कहा कि पिछले कई दिन से लगातार सीवर का गंदा पानी गंगा में गिर रहा है। इससे हिंदुओं की आस्था को ठेस पहुंच रही है। कुंभ मेला प्रशासन को भी इस तरफ ध्यान देना चाहिए। कहा कि देश-विदेश से रोजाना हजारों श्रद्धालु गंगा स्नान करने पहुंचते हैं। ऐसे में यात्री यहां से गलत संदेश लेकर जाते हैं। शीघ्र ही सीवर लाइन की मरम्मत नहीं हुई तो उग्र आंदोलन किया जाएगा। कहा कि लाइन टूटने से सीवर का पानी गंगा में गिर रहा है, यह बात विभागीय अधिकारी कह रहे हैं। लेकिन लाइन ठीक करने के लिए विभाग की तरफ से कोई कदम नहीं उठाया जा रहा है। इस अवसर पर सुमित अरोड़ा, अंकित चंचल, मन्नू, अनिल कुमार, विशाल भट्ट, अरविंद शर्मा, प्रवीन शर्मा, अनुज ठाकुर, मन्नू दीक्षित, गौतम ठाकुर, नवीन कपूर, विशाल मूर्ति भट्ट, नीलम शर्मा, आशीष शर्मा, सुमित शर्मा, अनुज कुमार आदि शामिल रहे।