गैस पाइप लाइन को लेकर स्थिति स्पष्ट करने की मांग को लेकर सौंपा ज्ञापन

हरिद्वार। भूमिगत गैस पाइप लाइन की वस्तु स्थिति को स्पष्ट करने हेतु विचार जागृति मंच के पदाधिकारियों ने जिला पूर्ति अधिकारी को ज्ञापन सौंपा। उन्होंने कुछ बिंदुओं पर पूर्ति अधिकारी से स्पष्टता की मांग उठाई। संरक्षक एडवोकेट अरविंद शर्मा ने बताया कि हरिद्वार में भूमिगत गैस पाइपलाइन भारत नेचुरल गैस प्राइवेट लिमिटेड द्वारा डाली जा रही है। कर्मचारियों द्वारा लोगों को भ्रमित भी किया जा रहा है। भूमिगत गैस पाइपलाइन से गैस कनेक्शन लिया जाना उपभोक्ता के लिए अनिवार्य है या यह स्वेच्छा का विषय हैं। भूमिगत गैस पाइपलाइन जिस मास्टर प्लान के आधार पर डाली जा रही है वह उन संबंधित क्षेत्रों के लिए सार्वजनिक की जाए ताकि लोग सुरक्षा के दृष्टिकोण से और गुणवत्ता के दृष्टिकोण से उन पर निगाह रख सकें तथा अनियमितताओं की सूचनाएं शासन तक पहुंचा सकें। भूमिगत गैस पाइपलाइन डालने के बाद संबंधित विभाग या कंपनी सुरक्षा के दृष्टिकोण से नागरिकों को जागरूक करें तथा इसकी एक नीति निर्धारित हो ताकि भविष्य में कोई बड़ी घटना ना घट सके। महामंत्री डा विशाल गर्ग ने कहा कि अधिकांश लोगों में भ्रांति है कि भूमिगत गैस लाइन डालने के बाद वर्तमान में वर्षों से चली आ रही है। एलपीजी सिलेंडर गैस एजेंसी बंद हो जाएंगी यह स्थिति स्पष्ट की जाए क्या, ताकि जो लोग एलपीजी सिलेंडर कनेक्शन को यथावत रखना चाहते हैं वह अपने इन गैस का क्षणों को यथावत रख सकें। भूमिगत गैस पाइपलाइन क्या सरकारी उपक्रम है तथा क्या उपभोक्ता दोनों ही तरह के कनेक्शनों को एक साथ उपयोग में ला सकता है या जारी रख सकता है। सुधीर शर्मा और विक्रम सिंह नाचीज ने कहा कि शासन स्तर पर सभी बातें स्पष्ट होनी चाहिए जिससे किसी को काई भ्रम नहीं हो। जनता को भ्रम की स्थिति में रखना ठीक नहीं है।