भगवान शिव सृष्टि की उत्पत्ति, स्थिति एवं संहार के अधिपति

हरिद्वार। आनन्द पीठाधीश्वर आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी बालकानंद गिरी महाराज ने कहा कि देवों के देव महादेव भगवान शिव सृष्टि की उत्पत्ति, स्थिति एवं संहार के अधिपति हैं और अनादि सृष्टि प्रक्रिया के आदि स्रोत हैं। जो व्यक्ति की सूक्ष्म आराधना से ही प्रसन्न होकर उसे मनवांछित फल प्रदान करते हैं। जो व्यक्ति भगवान भोलेनाथ की शरण में आ जाता है। उसका जीवन स्वयं ही सफल हो जाता है। भूपतवाला स्थित हरिधाम सनातन सेवा ट्रस्ट आश्रम में श्रावण मास के दौरान भगवान शिव का शहर, दूध, चंदन और विभिन्न प्रकार के फूलों से रूद्राभिषेक व श्रंग्रार किया गया और कोरोना वायरस से निजात हेतु भगवान शिव से प्रार्थना की। स्वामी बालकानन्द गिरी महाराज ने कहा कि भगवान शिव मनुष्य के कर्मो को भलीभांति निरीक्षण कर उसे वैसा ही फल प्रदान करते हैं। भोलेनाथ को समर्पित श्रावण मास में जो श्रद्धालु भक्त भगवान की विधानपूर्वक पूजा अर्चना करते हैं। उनके समस्त कष्टों का निवारण भगवान भोलेनाथ करते हैं। इस अवसर पर महंत नत्थीनंद गिरी, महंत विकास गिरी, आचार्य मनीष जोशी, मोनू गिरी आदि मौजूद रहे।


Popular posts