डॉ. वेदव्रत ने गुरुकुल की स्थापना और इतिहास के बारे में छात्रों को जानकारी दी

 हरिद्वार। गुरुकुल कांगड़ी सम विश्वविद्यालय के मानविकी संकाय में छात्र प्रेरणा कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्य वक्ता डॉ. वेदव्रत ने कहा कि विवि की स्थापना उच्च राष्ट्रीय लक्ष्यों एवं राष्ट्रसेवा के उद्देश्य से की गयी है। गुरुकुल का उद्देश्य मात्र औपचारिक डिग्री वाली शिक्षा देना नहीं रहा है, बल्कि गुरुकुल का उद्देश्य भारतीय संस्कृति, सभ्यता एवं साहित्य के प्रति जागरूक छात्रों का निर्माण करना रहा है। डॉ. वेदव्रत ने गुरुकुल की स्थापना और इतिहास के बारे में नव प्रवेशित छात्रों को जानकारी दी। कार्यक्रम में अपने अध्यक्षीय सम्बोधन में मानविकी संकायाध्यक्ष मानविकी संकाय प्रो. अंबुज कुमार शर्मा ने कहा कि गुरुकुल की परंपरा छात्रों को वैदिक और भारतीय ज्ञान परंपरा में दीक्षित करने का कार्य करती है, एक जागरूक नागरिक के रूप में जिसकी उपयोगिता सदैव विद्यमान रहती है। मार्गदर्शन सत्र में वेद विभाग के प्रो.मनुदेव बंधु ने कहा कि प्रेरणा कार्यक्रम की यह उपयोगिता है कि गुरुकुल में आने वाली छात्रों की नई पीढ़ी यहां के गौरवशाली इतिहास से प्रेरणा पाकर गुरुकुल की इस समृद्ध परंपरा को आगे बढ़ाएगी। संचालन कार्यक्रम संयोजक डॉ. दीपक सिंह ने किया। कार्यक्रम में स्नातक, स्नातकोत्तर, डिप्लोमा एवं पीएचडी कोर्स वर्क के छात्रों ने प्रतिभाग किया। मानविकी संकाय के शिक्षक डॉ.विपुल भट्ट,डॉ.अजित तोमर, डॉ.वरुण बख्शी,अरुण सिंह अवाना, डॉ. अनुज कुमार, डॉ.नवीन पन्त, डॉ.राम मोहन पाण्डेय एवं कार्यक्रम सह-संयोजक सुनील कुमार आदि उपस्थित रहे।