भारतीय किसान यूनियन अंबावता का तीन दिवसीय अधिवेशन आज से

 हरिद्वार। भारतीय किसान यूनियन अंबावता के अध्यक्ष चैधरी ऋषिपाल अंबावता ने प्रैस को जानकारी देते हुए बताया कि दस, ग्यारह, बारह जून को अलकनंदा मैदान में भारतीय किसान यूनियन अंबावता का राष्ट्रीय अधिवेशन आयोजित किया जाएगा। अधिवेशन में देश भर से हजारों की संख्या में किसान शामिल होंगे। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की किसान विरोधी नीतियों और देश भर में किसानों पर हो रहे अत्याचार के विरुद्ध आवाज उठाने के लिए अधिवेशन का आयोजन किया जा रहा है। कृषि प्रधान देश में आजादी से अब तक किसान आयोग का गठन नहीं हो पाया है। भारत का किसान हताश और निराश है। बढ़ती महंगाई और बेरोजगारी से किसान लगातार आत्महत्या करने को मजबूर है। कृषि के लिए यूरिया खाद पेट्रोल डीजल लगातार महंगा हो रहा है। ऐसे में किसान खेती करने के लिए सोचने को मजबूर है और बार-बार किसान आंदोलन को मजबूर होते हैं पर राज्य एवं केंद्र सरकार अपने कान बंद किए बैठी रहती हैं। अधिवेशन के माध्यम से सरकार विरोधी नीतियों के खिलाफ आवाज बुलंद की जाएगी। देश का किसान अब और अधिक चुप बैठने वाला नहीं है। किसानों की मांगों को पूरा किया जाए और बिजली-पानी पर अतिरिक्त सब्सिडी प्रदान की जाए साथ ही जल्द से जल्द किसान आयोग का गठन किया जाए।