सरकारें कर रही स्वतंत्रता सेनानी उत्तराधिकारियों की उपेक्षा-जितेंद्र रघुवंशी

 


हरिद्वार। स्वतंत्रता सेनानी उत्तराधिकारी परिवार के राष्ट्रीय महासचिव जितेन्द्र रघुवंशी ने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी परिवारों की पीड़ा को व्यक्त करते हुए बताया कि 12 मार्च 2021 से आरंभ आजादी का अमृत महोत्सव 15 अगस्त 2022 को समाप्त हो जाएगा। इसमें केंद्र सरकार तथा राज्य सरकारों ने प्रदर्शनपरक औपचारिकताएं तो निभाईं पर स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों तथा उनके परिवारों की पीड़ा का एहसास ना करके जिस तरह से नजरअंदाज किया है। इस उपेक्षा और अपमान से देश भर के स्वतंत्रता सेनानी संगठन आक्रोशित हैं। प्रैस क्लब में आयोजित प्रैसवार्ता के दौरान रघुवंशी ने कहा कि इससे आहत देश के सेनानी परिवारों के हितों की रक्षा करने के लिए संघर्षरत 28 संगठनों ने स्वतंत्रता सेनानी उत्तराधिकारी परिवार समिति (रजि.) के तत्वावधान में 6 व 7 मई को इंदौर (म.प्र.) में स्वतंत्रा सेनानी उत्तराधिकारी संयुक्त संगठन (रजि.) भोपाल द्वारा एक विराट स्वतंत्रता सेनानी परिवार राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है। इसमें देश के विभिन्न भागों से लगभग 100 स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, वीरांगनाएं, शहीदों के वंशज तथा लगभग 1000 स्वतंत्रता सेनानी उत्तराधिकारी शामिल हो रहे हैं। उन्होंने बताया कि आजादी के संघर्ष में सबसे अधिक त्रासदी झेलने वाले सेनानी परिवारों की पीड़ा को व्यक्त करते हुए कई बार भारत सरकार को दिल्ली में स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्मारक की स्थापना, संवैधानिक संस्थाओं में सेनानी परिवारों का मनोनयन, सेनानी उत्तराधिकारी परिवार आयोग का गठन, राष्ट्रीय परिवार का दर्जा दिया जाना, आर्थिक सहायता का प्रावधान, पाठ्यक्रम में स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की जीवनी को शामिल किया जाना तथा लंबित मामलों का शीघ्र निस्तारण करने जैसे सुझाव दिए गए थे, किंतु अब तक सरकार द्वारा किसी भी बिन्दु पर सार्थक कदम नहीं उठाया गया है। महासचिव जितेन्द्र रघुवंशी ने बताया कि इंदौर राष्ट्रीय सम्मेलन में सभी संगठनों के प्रतिनिधियों की समन्वय समिति बनाकर राष्ट्रव्यापी आंदोलन चलाने की घोषणा करेंगे। प्रेस वार्ता में समिति के कार्यकारी अध्यक्ष सुरेंद्र कुमार सैनी ने आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा कि एक ओर हरिद्वार नगर निगम में स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के नाम से सड़कों के नामकरण के प्रस्ताव कई वर्षों से धूल फांक रहे हैं तो दूसरी ओर अमृत महोत्सव का प्रदर्शन किया जा रहा है, यह शर्मनाक है। समिति के उपाध्यक्ष मुरली मनोहर ने शहीद जगदीश वत्स तथा शहीद पार्क की दुर्दशा पर दुख व्यक्त करते हुए बताया कि प्रशासन से इन दोनों पार्कों के सौन्दर्यीकरण के लिए कई बार गुहार लगाई गई, पर अब तक झूठे आश्वासन ही मिलते रहे। शहीद जगदीश वत्स के भांजे गोपाल नारसन ने भी बताया कि मुख्यमंत्री द्वारा 9 अगस्त 2021 में हरिद्वार के सलेज फार्म में शहीद जगदीश वत्स स्वतंत्रता सेनानी सेवा सदन बनाने की घोषणा की गई थी, किंतु अभी तक नगर निगम हरिद्वार द्वारा सेवा सदन के लिए भूमि तक आवंटित नहीं की गई। इंदौर राष्ट्रीय सम्मेलन के बाद स्वतंत्रता सेनानी परिवार इसके लिए व्यापक स्तर पर आंदोलन करेंगे। प्रेस वार्ता में स्वतंत्रता संग्राम सेनानी भारत भूषण विद्यालंकार, धर्मवीर धींगरा तथा कैलाश वैष्णव तथा राजन कौशिक भी उपस्थित रहे।