गुनाहों से बचने और अल्लाह के करीब आने का जरिया है रमजान-जावेद राव

 हरिद्वार। हरिद्वार ग्रामीण के युवा भाजपा युवा जावेद राव ने कहा कि रमजान का महीना गुनाह से बचने और अल्लाह के करीब आने का जरिया है। इसलिए सभी बुरी बातों से बचते हुए अच्छाइयों को अपनी जिंदगी में शामिल करने की जरूरत है। जावेद राव ने कहा कि रोजा केवल भूखा एवं प्यासा रहने का नाम नहीं है। बल्कि रोजा अपने अंदर शामिल बुराइयों को बाहर कर अच्छाइयों को ग्रहण करने का अवसर है। उन्होंने कहा कि  बुराइयों को अपने पास ना आने दे और समाज से भी बुराइयों को दूर करने में सहयोग करें। कमजोर व जरूरतमंदों की मदद करें। दूसरों के साथ हमदर्दी और मोहब्बत के साथ पेश आएं। रमजान का अर्थ खुद को भूख प्यास से रोकने के साथ-साथ झूठ बुराइयों के अलावा हर उस काम से रोकना है जो गलत है। रोजेदार को अपने शरीर पर रोजे की हालत में पूरा नियंत्रण रखना चाहिए। बुराइयों से बचने का नाम ही रोजा है। जावेद राव ने कहा कि अल्लाह की इबादत करते हुए सच्चे मन से अपने गुनाहों की माफी मांगे तो अल्लाह गुनाहों को माफ कर देते हैं। इस दौरान ऐसा कोई काम भूलकर भी नहीं करना चाहिए जो अल्लाह को नाराज करे।