जिलाधिकारी ने कुटटू आटा की बिक्री पर लगाई रोक,दिए सैंपलिंग के निर्देश

 हरिद्वार। नवरात्रों में फलाहार माने जाने वाला कुट्टू का आटा खाने से अब तक 122 के करीब लोग फूड प्वाइजनिंग का शिकार हो गए हैं। सभी बीमार लोग हरिद्वार के विभिन्न हॉस्पिटल में भर्ती है। हरिद्वार जिला हॉस्पिटल,मेला अस्पताल, कनखल स्थित रामकृष्ण मिशन,भूमानंद और श्यामपुर कांगड़ी स्थित निजी अस्पताल में उपचाराधीन है। पीड़ित के परिवार के सदस्य ने बताया कि कल शाम कुट्टू के आटे की पूरी बनाई थी जो कि घर मे सभी सदस्यों ने खाई थी जिसके बाद सभी सो गए। देर रात सबकी हालत बिगड़ी ओर चक्कर आने व उल्टियां शुरू हो गई। जिसके बाद आनन-फानन में परिवार के सभी सदस्य जिला अस्पताल आए जहा पर उन्हें भर्ती कर उपचार चल रहा है। ओर अभी हालात में सुधार नही आ पाया है। जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय ने अस्पताल पहुचकर कुट्टू के आटे खाने से बीमार हुए मरीजों का हाल जाना। उन्होने सीएमओ को बेहतर उपचार के दिशा निर्देश दिए। जिलाधिकारी विनय शंकर पांडे ने फूड पॉइजनिंग के पेशेंट से हालचाल जानने जिला हॉस्पिटल हरिद्वार पहुंचे जहां उन्होंने सभी पेशेंट से बात की और सीएमओ को स्टैंडबाई पर हॉस्पिटल रखने के लिए कहा। उन्होंने बताया कि हमने जिला हॉस्पिटल और जिला मेला  हॉस्पिटल में भी पेट में उसको रेफर करना शुरू कर दिया है कोई भी पेशंट अब तक क्रिटिकल नहीं है। अभी जिले में कुट्टू के आटे के होलसेल सप्लायर सभी को हटा बेचने पर प्रतिबंधित किया गया है और मेरे द्वारा अभी सिटी मजिस्ट्रेट को आदेश दिया गया एक लेटर बनाकर जारी कर दिया जाए कि कोई भी कुट्टू का आटा ना बेचे।