हरिद्वार टैक्सी ड्राईवर एण्ड आॅनर एसोसिएशन ने लगाया भेदभाव का आरोप

 


हरिद्वार। हरिद्वार टैक्सी ड्राईवर एण्ड आॅनर एसोसिएशन ने भेदभाव का आरोप लगाते हुए चारधाम यात्रा को लेकर प्रशासन द्वारा बुलायी गयी बैठक का बहिष्कार किया और सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय पर प्रदर्शन कर मुख्यमंत्री को ज्ञापन प्रेषित किया। प्रदर्शन के दौरान एसोसिएशन के अध्यक्ष बंटी भाटिया ने कहा कि देवभूमि उत्तराखण्ड का प्रवेश द्वार होने के बावजूद चारधाम यात्रा को लेकर हरिद्वार के साथ सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। चारधाम यात्रा की तैयारियों, व्यवस्थाओं एवं समस्याओं पर विचार विमर्श के लिए परिवहन मंत्री की अध्यक्षता में 18 अप्रैल को देहरादून में होने वाली बैठक में हरिद्वार के परिवहन व्यवसायियों के किसी भी संगठन को आमंत्रित नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि कुछ अधिकारी व्यवस्था बनाने के बजाए बिगाड़ने का काम कर रहे हैं। जोकि निंदनीय है। सचिव संजय शर्मा ने कहा कि बैठक में केवल देहरादून, ऋषिकेश, कोटद्वार, रामनगर, हलद्वानी, कर्णप्रयाग, पौड़ी, चमोली आदि के परिवहन व्यवसायियों के संगठन को ही आमंत्रित किया गया। हरिद्वार की पूरी उपेक्षा की गयी। उन्होंने कहा कि परिवहन विभाग के इस रवैये को लेकर हरिद्वार के परिवहन व्यवसायियों में गहरा रोष है। इसी के चलते प्रशासन द्वारा सीसीआर टावर में बुलायी गयी बैठक का बहिष्कार करने का निर्णय लिया गया। हरिद्वार के सौतेले व्यवहार को कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। प्रदर्शन व ज्ञापन देने वालों में सोम चैहान, सुनील जायसवाल,विवेक चैहान, इकबाल, राजीव अग्रवाल,गिरीश भाटिया,दीपक,धर्मपाल, मुकेश गिरी सहित एसोसिएशन के कई पदाधिकारी व सदस्य शामिल रहे।