विजयी खिलाडियों को प्रतिकुलपति ने किया सम्मानित

 देसंविवि में आयोजित उत्सव-२२ सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ संपन्न


हरिद्वार। देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के २२वाँ वार्षिकोत्सव का पुरस्कार वितरण एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ समापन हो गया। इस अवसर पर कुलपति शरद पारधी एवं प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या ने प्रतिभागियों की खेल भावना को सराहा। विभिन्न प्रतियोगिताओं में प्रथम, द्वितीय आये छात्र-छात्राओं को उन्होंने प्रशस्ति पत्र एवं मेडल भेंटकर सम्मानित किया। इस अवसर पर विद्यार्थियों को दिये वर्चुअल संदेश में कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्या ने कहा कि शारीरिक व बौद्धिक प्रतियोगिता का सम्मिश्रण ने युवाओं में उत्साह जगाया है। इस भावना को बनाये रखने से मनोवांछित सफलता निश्चित है। खेल अधिकारी नरेन्द्र सिंह व श्रीमती श्रुति मनीष ओडुकले ने बताया कि खेलकूद के अंतर्गत छात्र-छात्राओं ने भी अपना दमखम दिखाया। उत्सव में सांस्कृतिक एवं खेलों के संबंधित कुल ४५ प्रकार प्रतियोगिताएँ आयोजित की गयीं। टेबल टेनिस में पारितोष को पहला तथा अभिषेक को दूसरा स्थान मिला। टग ऑफ वार बालक वर्ग में देवेन्द्र शर्मा की टीम विजयी रही तो वहीं बालिका वर्ग में निशा लोहिया की टीम को प्रथम स्थान मिला। सेवन स्टोन में बालिका वर्ग में अन्नु की टीम जीतने में कामयाब रही। बॉलीबाल के बालिका वर्ग में अमृता की टीम ने कड़ी मशक्कत के बाद जीत दर्ज की। बॉस्केटबाल के बालिका वर्ग में अंजलि की टीम ने आसानी से विपक्षी टीम को हराया तो वहीं बालक वर्ग में करण सिंह की टीम प्रथम स्थान मिला। इसके साथ ही कई खेलों में विजयी खिलाड़ियों ने खेल भावना का परिचय देते हुए साथी खिलाडी को विजयी घोषित कर दिया। सांस्कृतिक प्रतियोगिता प्रभारी डॉ.शिवनारायण प्रसाद ने बताया कि रंगोली प्रतियोगिता में श्रुति, मेंहदी मे सपना पाण्डेय, ढ़पली वादन में निष्ठा सिंह, सोलो प्रज्ञा गीत में भास्कर तिवारी, समूहगान में रजत की टीम,सोलो क्लासिकल गायन में आदित्य प्रकाश, चित्रकला में खूशबू गुप्ता, कविता में शक्तिमयी ताण्डी,निबंध में सचिन द्विवेदी, क्विज प्रतियोगिता में चरक ग्रुप, समूह नृत्य में अंजामी की टीम, भाषण प्रतियोगिता में गौतम अंगिरा, ढपली गायन में निष्ठा सिंह, ऋत्मिक योगा में ज्योति कुमार और टीम, तबला वादन में दिनेश मारवाडे, हारमोनियम वादन में सचिन माथुर, गिटार वादन में कुणाल धवन को प्रथम स्थान मिला। उन्होंने बताया कि इस वर्ष शास्त्रीय संगीत, डॉस, क्वीज प्रतियोगिताओं में प्रतिभागियों ने अपनी कला, कौशल का जबरदस्त प्रदर्शन किया। उत्सव-२२ में अधिकतर छात्र-छात्राओं ने अपने साथियों के हार को जीत में बदल दिया। इस दौरान छात्र-छात्राओं ने खेल भावना को बहुत ही सुंदर उदाहरण पेश किया। उत्सव में कुल ४५ प्रकार प्रतियोगिता आयोजित की गयी। इस अवसर पर कुलपति श्री शरद पारधी, प्रतिकुलपति डॉ चिन्मय पण्ड्या, कुलसचिव बलदाऊ देवांगन, सभी विभागाध्यक्ष सहित विश्वविद्यालय व शांतिकुंज परिवार एवं ब्रह्मवर्चस शोध संस्थान के कार्यकर्ता उपस्थित रहे।