धर्म संस्कृति के प्रचार प्रसार में संत समाज की निर्णायक भूमिका-पं.अधीर कौशिक


 हरिद्वार। लंबे समय बाद हरिद्वार आए स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद का श्री अखण्ड परशुराम अखाड़े के अध्यक्ष पंडित अधीर कौशिक ने फूलमाला पहनाकर स्वागत किया और आशीर्वाद लिया। पंडित अधीर कौशिक ने कहा कि सनातन धर्म संस्कृति के प्रचार प्रसार में संत समाज निर्णायक भूमिका निभाता चला आ रहा है। देश दुनिया में संत समाज भारतीय संस्कृति की पताका को फहरा रहा है। उन्होंने कहा कि शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानन्द के शिष्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद समाज को ज्ञान की प्रेरणा देकर उनके कल्याण का मार्ग प्रशस्त करने में अहम भूमिका निभा रहे हैं। पंडित अधीर कौशिक ने कहा कि संत महापुरूषों के तप बल पर विपदाएं टल जाती हैं। संतों के सानिध्य में युवा वर्ग को भारतीय संस्कृति के प्रचार प्रसार में अपनी भूमिका निभानी चाहिए। अपने ज्ञान एवं वाणी से सदैव ही श्रद्धालु भक्तों का कल्याण करने वाले स्वामी अविमुक्तेश्वरानन्द समाज के लिए प्रेरणा स्रोत हैं। हिन्दू संस्कृति को विश्व पटल पर प्रचारित प्रसारित करने में संत समाज की जितनी भी प्रशंसा की जाए कम है। इस दौरान विनोद मिश्रा, जलज कौशिक ने भी स्वामी अविमुक्तेश्वरानन्द महाराज से आशीर्वाद लिया।