गौरैया के संरक्षण संवर्द्धन के लिए आगे आएं-पूनम सौरियाल


 हरिद्वार। गौरैया दिवस पर विलुप्त होती गौरैया को बचाने की अपील करते हुए पक्षी प्रेमी पूनम सौरियाल ने कहा कि वर्तमान दौर में देखा जा रहा है कि गौरैया लगातार कम होती जा रही है। जो चिंताजनक है। उन्होंने कहा कि कीटनाशक के अधिक प्रयोग के साथ वातावरण में परिवर्तन आदि कारणों से पक्षियों की जनसंख्या पर बहुत प्रभाव पड़ा है। यह एक विचारणीय प्रश्न है और सभी को इस पर ध्यान देना चाहिए। बढ़ता प्रदूषण मानव जीवन के साथ पक्षीयों के लिए भी नुकसानदायक सिद्ध हो रहा है। गौरैया को बचाने के लिए वनविभाग को नीति बनाकर काम करना चाहिए। साथ ही आमजन को भी गौरैया संरक्षण में योगदान करना चाहिए। इसके लिए सभी को अपने घरों की छतों पर गौरैया लिए दाना और पानी उचित स्थानों पर रखकर उन्हें जीवित रखने का अथक प्रयास करना चाहिए। साथ ही पर्यावरण को प्रदूषण से बचाने के लिए भी सहयोग करते हुए अपने आसपास पौधे लगाएं और उनका संरक्षण करें। स्कूल कालेजों, सरकारी दफ्तरों में गौरैया के निवास के लिए घोंसले स्थापित किए जाएं। उन्होंने कहा कि सभी के सहयोग से ही गौरैया व अन्य पक्षियों को बचाया जा सकता है।