आपसी संघर्ष में घायल दूसरे हाथी की भी मौत


 हरिद्वार। राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क की मोतीचूर रेंज में बीते गुरुवार को दो टस्कर हाथियों के बीच हुए आपसी संघर्ष में दूसरे हाथी की भी मौत हो गई है। दूसरे हाथी का शव मोतीचूर रेंज स्थित सुसवा नदी में पाया गया है। शनिवार को दूसरे हाथी की मौत की सूचना के बाद राजाजी पार्क के निदेशक अखिलेश तिवारी समेत कई अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर हाथी के शव का पोस्टमार्टम कराया। राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क के वन्यजीव प्रतिपालक एलपी टम्टा ने बताया कि बीते गुरुवार को राजाजी पार्क की मोतीचूर रेंज में दो टस्कर हाथियों के बीच संघर्ष हो गया था। मोतीचूर रेंज से सटे साहब नगर ग्रामसभा स्थित सौंग नदी में टस्कर का शव मिला है। बीती 17 फरवरी को मोतीचूर रेज के सत्यनारायण क्षेत्र में दो जंगली हाथियों के बीच हुए संघर्ष में एक 55 वर्षीय हाथी की मौत हो गयी थी। जबकि संधर्ष में घायल हुआ एक हाथी घने जंगलों की और चला गया था। हाथीयों के बीच हुए संघर्ष की घटना के बाद से ही मोतीचूर व कांसरो रेज की कई टीमें घायल हाथी की तलाश में जुटी हुई थी। बीती देर रात घायल हाथी की लोकेशन सांग नदी के पास मिलने पर वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची। टीम के इलाज शुरू करने से पहले ही घायल हाथी ने दम तोड़ दिया। घायल की हाथी की मौत की सूचना के बाद वन विभाग के चिकित्सों की टीम द्वारा मौके पर ही मृत हाथी का पोस्टमार्टम किया गया। जिसके चलते एक टस्कर हाथी की गुरुवार को ही गंभीर रूप से घायल हो जाने पर मौत हो गई थी। गुरुवार से ही राजाजी पार्क की मोतीचूर और कांसरो रेंज का स्टॉप सर्च ऑपरेशन चलाते हुए दूसरे हाथी की तलाश कर रहा था। सर्च अभियान के तीसरे दिन दूसरे हाथी का शव मोतीचूर रेंज में गुलार पड़ाव बीट की सीमा पर सुसवा नदी में पाया गया है। हाथी के शव को क्रेन की मदद से नदी से बाहर निकाला गया है। जिसके बाद हाथी के शव का पोस्टमार्टम भी करा दिया गया है। इस मौके पर राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क की मोतीचूर रेंज के वन क्षेत्राधिकारी महेंद्र गिरी, कांसरो रेंज के वन क्षेत्राधिकारी हरीश चंद्र सेमवाल सहित कई राजाजी पार्क के कर्मचारी भी मौजूद रहे।