शहर सीट पर पुरूषों के मुकाबलें महिलाओं ने किया दो प्रतिशत ज्यादा मतदान किसका होगा कल्याण

 मतदान के बाद बूथवार मतों को लेकर की जा रही समीक्षा

हरिद्वार। उत्तराखण्ड की पांचवी विधानसभा के लिए मतदान सम्पन्न होने के तीसरे दिन भी प्रत्याशियों के हार-जीत को लेकर जगह जगह चर्चाए होती रही। इस बार शहर सीट पर मुकाबले को काफी कड़ा माना जा रहा है। खास बात यह है कि शहरी सीट पर इस बार पुरूषों के मुकाबले महिलाओं ने ज्यादा मतदान किया। महिलाओं द्वारा किया गया मतदान किसके पक्ष में जा सकते है,इसको लेकर कई राजनीतिक जानकारी गुणा-भाग करते दिखाई दिए। मतदान सम्पन्न हो जाने के बाद प्रत्याशी अपने-अपने घरों पर मतदान को लेकर बूथवार गुणा भाग में जुटे हुए हैं। इस बार हरिद्वार ग्रामीण में 80प्रतिशत से ज्यादा मतदान सभी के आकलन को उलक्षा रहा है। इन में पुरूषों का मतदान प्रतिशत करीब 82प्रतिशत है,तो वही महिलाओं का प्रतिशत 81.24 है। वही हरिद्वार नगर में इस बार 64.37प्रतिशत मतदान हुआ, इनमें 63.46प्रतिशत पुरूषों ने एवं 65.46प्रतिशत महिलाओं ने मताधिकार का प्रयोग किया,यानि महिलाओं का मताधिकार का प्रयोग दो प्रतिशत ज्यादा रहा। रानीपुर में 68.28प्रतिशत पुरूषों ने एवं 68.35प्रतिशत महिलाओं ने मताधिकार का प्रयोग किया। इसके अलावा ज्वालापुर सुरक्षित सीट पर 79.91पुरूषों ने तथा 77.86 महिलाओं ने मताधिकार का प्रयोग कर प्रत्याशियों का राजनीतिक भाग्य ईवीएम में कैद कर दिया। हरिद्वार नगर, ज्वालापुर, रानीपुर भेल और हरिद्वार ग्रामीण में भाजपा कांग्रेस के बीच के कठिन मुकाबले से इनकार नहीं किया जा सकता है। इस बार हरिद्वार नगर सीट पर 9, ज्वालापुर में 8,रानीपुर भेल में 12 और हरिद्वार ग्रामीण सीट पर 13 प्रत्याशी चुनाव मैदान में थे। प्रमुख पार्टी भाजपा कांग्रेस के अलावा, बसपा, आप, उक्रांद से भी प्रत्याशी चुनाव मैदान में थे। लेकिन चुनावी बिसात में कड़ी टक्कर भाजपा कांग्रेस के मध्य ही देखने को मिली। तीन सप्ताह तक चुनाव परिणाम की इंतजार प्रत्याशियों में बैचेनी को बढ़ाती दिख रही है। एक लंबे समय तक प्रत्याशियों को हार-जीत के लिए अब टेंशन में रहना होगा। खास तौर पर भाजपा और कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशियों में परिणाम को लेकर भारी बेचैनी देखी जा रही है। बताया जाता है कि भाजपा और कांग्रेस खेमे में बड़ी बारीकि के साथ बूथवार मतदान की समीक्षा की जा रही है। दोनों दल अपने-अपने गढ़ों में हुए मतदान को लेकर हार-जीत का मंथन कर रहे हैं। दोनों दलों में कार्यकर्ता अपनी-अपनी पार्टी की जीत को लेकर सोशल मीडिया में भी कमेंट करते नजर आ रहे हैं।