मुख्य शिक्षाअधिकारी एवं प्रशासनिक अधिकारी निलम्बित,विभागीय जांच के आदेश

 देहरादून। शिक्षा सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम ने हरिद्वार के मुख्य शिक्षा अधिकारी विद्याशंकर चतुर्वेदी को सस्पेंड कर दिया है। उनके साथ एक प्रशासनिक अधिकारी को भी सस्पेंड किया गया है। कल रविवार छुट्टी के दिन आचार संहिता लागू होने के बाद दोनों अधिकारी कार्यालय खोलकर अध्यापकों की नियुक्ति पत्र जारी कर समायोजन का कार्य कर रहे थे। शिकायत पर जिलाधिकारी विनय शंकर पांडे ने छापेमारी की थी। प्रदेश में शनिवार से आचार संहिता लागू होने के बाद रविवार अवकाश के दिन दफ्तर खोलकर बैक डेट में अध्यापकों के समायोजन और अशासकीय विद्यालयों में नियुक्ति पत्र तैयार किए जा रहे थे। मामले को जिलाधिकारी विनय शंकर पांडेय ने गंभीरता से लिया है। प्रथम दृष्टया मुख्य शिक्षा अधिकारी (सीईओ) हरिद्वार की संलिप्तता सामने आने पर सीईओ और उनके कार्यालय के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी के खिलाफ निलंबन की संस्तुति की कार्रवाई की है। प्रदेश में चुनाव की घोषणा के साथ ही शनिवार शाम से आचार संहिता लग गयी है। आचार संहिता लागू होने के बाद भी सीईओ कार्यालय में नियम विरुद्ध कार्य किए जाने की शिकायत जिलाधिकारी विनय शंकर पांडेय को मिली। इसे गंभीरता से लेते हुए उन्होंने मामले की जांच कराई। जिसमें रविवार अवकाश के बावजूद दफ्तर खोलकर मुख्य प्रशासनिक अधिकारी बैक डेट में अध्यापकों के समायोजन और नियुक्ति पत्र बनाते मिले। इस पूरे मामले में सीईओ की संलिप्तता की भी जांच करायी गयी। जिसमें उनकी भूमिका संदिग्ध पायी गयी। जिलाधिकारी विनय शंकर पांडेय ने बताया कि आचार संहिता के बाद भी समायोजन और नियुक्ति कार्य करना बेहद गंभीर विषय है। इसलिए सीईओ कार्यालय के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी जोगेंद्र सिंह राणा और मुख्य शिक्षाधिकारी हरिद्वार विद्या शंकर चतुर्वेदी के खिलाफ निलंबन के साथ ही कठोर कार्रवाई करने की संस्तुति शिक्षा सचिव और निदेशक से की गयी। सस्तुति पर कार्रवाई करते हुए सोमवार को सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम ने दोनों अधिकारी को सस्पेंड कर दिया है। इसके साथ ही विभागीय अनुशासनात्मक कार्रवाई किए जाने की भी संस्तुति की गई है।